रिश्ते

रिश्ते

डियर आयुषी, हमारी हर बात मानकर रोबोट न बन जाना

प्यारी बच्ची, तुम्हें किसी के जैसा नहीं बनना. अपने स्वभाव में किसी को देखकर बदलाव नहीं लाना.

रिश्ते

डियर आयुषी, इस दिवाली रौशनी सी क्रिएटिव बनो, बम सी डिस्ट्रक्टिव नहीं

तुम्हारा जीवन कागज़ जैसा है. उसको सुंदर रंगो या फाड़ दो, फैसला तुम्हें करना है.

रिश्ते

डियर आयुषी, एक बात याद रखना, कि सब कुछ याद रखना जरूरी नहीं

गलत बातों को अपने मन में सहेजकर मत रखो. वो जितनी देर तक तुम्हारे अंदर रहेगी, मन कड़वा करती रहेगी

रिश्ते

डियर आयुषी, मार्कशीट में नंबर भले कम रहें,अच्छे लोगों की कमी मत रखना

तुम अपने अंदर नंबर्स की नहीं इंट्रेस्ट की भूख पैदा करना

रिश्ते

डियर आयुषी: मैं मोबाइल से ज्यादा वक्त तुम्हें दूंगा

ये बीमारी बड़ों की है. तुम बच्चे इससे दूर रहो.

रिश्ते

हर दिन अपने रिश्ते में गिल्ट महसूस करती हैं तो मुमकिन है आप मानसिक उत्पीड़न की शिकार हों

आपको लगता है आपके पति या बॉयफ्रेंड का किसी से अफेयर है, पर वो आपको ही शक्की कहता रहता है?

रिश्ते

सात चीज़ें जो आपको टिंडर के ज़माने में बिलकुल नहीं करनी चाहिए

क्या करें जब आपको पता ना हो कि स्क्रीन के पीछे कौन है

Copyright © 2018 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today.