क्या हुआ जब बॉस ने महिला से कहा-'अपने पैरों के बाल शेव करो, ये कंपनी पॉलिसी है'

ये कैसी पॉलसी है भई?

सरवत फ़ातिमा सरवत फ़ातिमा
अगस्त 25, 2019
सांकेतिक तस्वीर. (फोटो कर्टसी: Pixabay)

घर हो. ऑफिस हो या फिर सड़कें हों. औरतों को अक्सर सेक्सिज़्म का सामना करना पड़ता है. औरतों को कैसे रहना चाहए, क्या कपड़े पहनने चाहिए, उनके शरीर को कैसा दिखना चाहिए, यहां तक की उनके शरीर पर बाल होने चाहिए या नहीं, ये सब समाज तय करता है. हाल-फ़िलहाल में इसका एक नमूना देखने को मिला.

एक वेबसाइट है रेडिट. इसपर एक 21 साल की महिला ने अपने साथ हुआ वाकया शेयर किया. महिला एक ऑफिस में काम करती हैं. यहां इनके बॉस ने उनको अपने पैरों के बाल शेव करने को कहा.

अपने पोस्ट में उसने लिखा कि उसे अपने शरीर के बाल शेव करना पसंद नहीं. वो उनपर ज़्यादा पैसे ख़र्च नहीं करती. वजह ये भी है कि उसके ज़्यादा बाल हैं नहीं.

screenshot-2_082619124400.jpg(फ़ोटो कर्टसी: Reddit)

वो लिखती है-

‘मैं तभी शेव करती थी जब में डेट पर जाती थी. वो भी किसी नए इंसान से मिलने. पर मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ पिछले तीन सालों से हूं. इसलिए मैं नहीं करती. न ही मेरे बॉयफ्रेंड को फर्क पड़ता है कि मेरे पैरों पर बाल हैं या नहीं. मैं ज़्यादा ऑफिस के टूर या इवेंट में नहीं जाती हूं. पर हाल फ़िलहाल में मुझे कुछ चीज़ें लेनी थी. इसलिए मैं ऑफिस गई. वहां मुझे कहा गया कि मेरे बॉस मुझसे बात करना चाहते हैं. जब मैं उनके पास पहुंची तो वो काफ़ी असहज दिख रहे थे. लाल हो रखे थे. आख़िरकार उन्होंने मुझे बताया कि उन्हें सफ़ाई-सुथराई के बारे में बात करनी है. मैं काफ़ी शर्मिंदा हो गई. मैनें पूछा उनका मतलब क्या है.’

इसके जवाब में बॉस ने कहा कि ऑफिस में कई लोगों ने उसकी शिकायत की है. उनका कहना है कि वो अपने पैरों के बाल शेव नहीं करती. जो कि कंपनी की पॉलिसी के खिलाफ़ है. महिला को और झटका लगा जब उसे ये कहा गया कि वो हाईजीनिक नहीं है.’

महिला आगे लिखती है-

‘मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था. मेरे पैरों के बाल शेव न करना कंपनी की पॉलिसी के खिलाफ़ कैसे हो गया? वो चुप रहे. मैनें बोला कि अगर ऐसा है तो क्या वो अपने बाल शेव करेंगे? उन्होंने कुछ नहीं कहा. मैनें कहा कि अगर हमें इस बारे में बात ही करनी है तो बेहतर है कि एचआर भी वहां हों. इसपर वो बोले की आगे इसके बारे में कोई बात करने की कोई ज़रुरत नहीं है.’

इसके बाद वो बॉस के केबिन से बाहर आ गई. उसने एचआर को एक मेल भी किया. मेल में लिखा कि उसकी अपने बॉस से क्या बात हुई. वो सोचती रही कि क्या ये उसकी गलती थी. पर रेडिट पर कई लोगों ने उसे सपोर्ट किया है.

ये अकेले इस महिला की दिक्कत नहीं है. हम महिलाएं अक्सर अपने शरीर के बालों को लेकर असहज रहती हैं. अगर हमने शेव नहीं किया होता तो हम शॉर्ट्स या ड्रेस नहीं पहनते. इसलिए कि हमसे उम्मीद की जाती है कि हमारे शरीर पर बाल न हो. स्किन एकदम स्मूद हो. ख़ूबसूरती के ये पैमाने समाज ने खींच दिए हैं. और हम इनमें फिट होने के लिए पूरी ज़िंदगी जूझते रहते हैं.

पढ़िए: डेट के बहाने मेरे साथ धोखा करने वाले लड़के ने जाने कितनी लड़कियों को बेवकूफ बनाया होगा

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group