ATM कार्ड गुम होने पर तुरंत ये काम करें, पैसा सेफ रहेगा

वॉलेट गुम होने पर हमें सबसे ज्यादा चिंता ATM कार्ड की ही होती है.

प्रतीकात्मक तस्वीर

'प्रीति (काल्पनिक नाम) मथुरा में रहती हैं. वो घर के लिए और खुद के लिए सामान खरीदने बाजार गईं. खरीदारी हो गई. और दोनों हाथ शॉपिंग बैग से भर गए. प्रीति ने टैक्सी पकड़ी और घर के लिए रवाना हो गईं. घर पहुंचने पर जब टैक्सी के पैसे चुकाने की बारी आई, तो प्रीति ने देखा कि उनके पास उनका वॉलेट ही नहीं है. शॉपिंग बैग्स में भी नहीं. प्रीति समझ चुकी थीं कि वो अपना वॉलेट बाजार में कहीं खो चुकी है. इस वॉलेट में कैश के अलावा डेबिट-क्रेडिट कार्ड्स भी थे.'

ये घटना सिर्फ प्रीति के साथ नहीं हुई है. कई बार जल्दबाजी या हड़बड़ी में हम अपना पर्स खो देते हैं या भीड़ में कोई चुरा लेता है. वॉलेट टोरी होने पर हमें सबसे ज्यादा चिंता अपने कार्ड्स की होती है. लेकिन सबसे ज्यादा चिंता हमें एटीएम कार्ड (जिसे डेबिट कार्ड भी कहते हैं) और क्रेडिट कार्ड की होती है. क्योंकि इनका गलत इस्तेमाल हमें दिवालिया बना सकता है. 

कार्ड्स चोरी होने या गुम होने की स्थिति में सबसे पहले ये स्टेप्स फॉलो करेंः

सबसे पहले बैंक के कस्टमर केयर में फोन करें. उसमें कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव से बात करने का ऑप्शन चुनें. उन्हें कार्ड गुम होने की जानकारी दें और अपना कार्ड ब्लॉक करने के लिए कहें. डेबिट और क्रेडिट कार्ड दोनों को ही इस तरीके से ब्लॉक किया जा सकता है. कार्ड ब्लॉक हो जाने पर आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर इसका मैसेज आएगा.

इसके अलावा तीन और तरीकों से आप अपना कार्ड ब्लॉक कर सकती हैंः

- बैंक के इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल से कार्ड को हॉट लिस्ट करके.

- बैंक की करीबी ब्रांच पर जाकर कार्ड ब्लॉक करा सकती हैं.

- कुछ बैंक्स मोबाइल बैंकिंग ऐप में सुविधा देते हैं कि कस्टमर खुद अपनी जरूरत के हिसाब अपना कार्ड ब्लॉक या अनब्लॉक कर सकते हैं.

ये जानकारी हमें एसबीआई की जबलपुर ब्रांच में असिस्टेंट मैनेजर ने दी. 

कार्ड ब्लॉक होने के बाद आप दूसरे कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसके लिए आप ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं. और बैंक जाकर भी. कुछ बैंक तुरंत एक नया कार्ड ईशू कर देते हैं. हालांकि इस कार्ड में नाम नहीं लिखा होता है. आप चाहें तो वो कार्ड तुरंत ले सकते हैं या फिर बाद में आपका नाम लिखा कार्ड आपके एड्रेस पर डिलीवर हो जाएगा. नए कार्ड के लिए सभी बैंक नॉमिनल रुपये चार्ज करते हैं.

जरूरी बातें-

- अगर आपको कार्ड गुम होने का शक है तो उसकी रिपोर्ट पुलिस में भी कराएं.

-कुछ मामलों में ऐसा देखा गया है कि बैंक पहला कार्ड ब्लॉक किए बिना दूसरा कार्ड जारी कर देते हैं. ऐसे में यूजर को पता नहीं होता कि उसका गुम या चोरी हुआ कार्ड भी चालू है.

- कुछ प्रायवेट बैंक ऐसे डेबिट कार्ड इश्यू करने शुरू कर चुके हैं, जिनसे पैसा निकालने के लिए डेबिटा कार्ड के पिन की जरूरत नहीं होती है. कार्ड को सिर्फ स्वाइप करके ही निकाला जा सकता है. लेकिन स्वाइप करके पैसे निकालने की लिमिट होती है. एक बार में 20,000 या 50,000 रुपये नहीं निकाले जा सकते हैं. आपके डेबिट कार्ड का कोई मिसयूज नहीं कर सके, इसलिए नया कार्ड जारी होने के बाद बैंक से कंफर्म कर लें कि उन्होंने आपका पुराना कार्ड ब्लॉक कर दिया है. 

- आपके ATM कार्ड से आपका ही एक मोबाइल नंबर लिंक होता है. जो बैंक खाते में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होता है. अगर कार्ड गुम होने के बाद इसपर OTP (वन टाइम पासवर्ड) आता है. और कोई व्यक्ति कॉल करके ATM लौटाने के बदले आपके मोबाइल पर आया ओटीपी या पासवर्ड बताने को कहे, तो ऐसा बिल्कुल न करें.

ये भी पढ़ें- दुकानदार आपको नकली नोट तो नहीं थमा रहा, ऐसे करें असली-नकली नोट की पहचान

 

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group