अगर बाल धोने के बाद भी उनसे बदबू आती है तो आपको ये दिक्कत है

'स्मेली हेयर सिंड्रोम' किसी को भी हो सकता है.

सांकेतिक तस्वीर. (फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

वंदना परेशान हो चुकी थी. रोज़ सुबह अपने बाल धोती. दोपहर होते-होते उनसे ऐसे बदबू आने लगती जैसे महीनों से धुले न हों. इस चक्कर में उसने अपने बालों पर ध्यान देना बंद कर दिया. क्या ही फ़ायदा होता. इतनी केयर करने के बावजूद भी उसके बालों से मछली जैसी बदबू आती. सारे दोस्त मज़ाक उड़ाते. वंदना की एक दोस्त ने उसे डॉक्टर की सलाह लेने की हिदायत दी. वैसे भी वंदना दुनियाभर के शैम्पू इस्तेमाल करके थक चुकी थी.

जब वंदना ने डॉक्टर को दिखाया तो पता है उसे क्या मालूम चला? उसे ‘स्मेली हेयर सिंड्रोम’ था. क्या है ये बला? ये जानने के लिए हमने बात की डॉक्टर निहारिका वर्मा से. वो काया स्किन क्लिनिक मुंबई में स्किन और बालों की डॉक्टर हैं.

तो क्या होता है ‘स्मेली हेयर सिंड्रोम’

“ये एक तरह की कंडीशन है. इसका आपके बालों की सफ़ाई से वास्ता नहीं है. आप भले ही रोज़ बाल धोएं, पर अगर आपको स्मेली हेयर सिंड्रोम है तो आपके बालों से और सिर की स्किन से बदबू आती है. ये किसी को भी हो सकता है. आपके सिर की स्किन में ग्लैंड्स होते हैं. यानी ग्रंथियां. यहां से पसीना और ऑइल निकलता रहता है. जिन लोगों में ये ओवर-प्रोडक्शन होता है उन्हें स्मेली हेयर सिंड्रोम की दिक्कत हो जाती है. और भी वजहें हैं.”

Related image

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

क्यों होता है ‘स्मेली हेयर सिंड्रोम’

-सर में बैक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन

-हमारे बालों में भतेरे माइक्रोऑर्गैनिज्म पनप रहे होते हैं. अब ये माइक्रोऑर्गैनिज्म क्या होते हैं? ये होते हैं सूक्ष्मजीव. चलिए इसे और आसान करते हैं. बैक्टीरिया की तरह ऐसे जीव जिन्हें हम बिना माइक्रोस्कोप के नहीं देख पाते हैं. जैसे बैक्टीरिया. या वायरस. वही जिहें डिटोल 99.9 मारने का दावा करता है. खैर, ये बदबू इन्हीं माइक्रोऑर्गैनिज्म की हरकतों का नतीजा है.

-अगर आप सिगरेट पीती हैं. या बहुत ज़्यादा धुए में घिरी रहती हैं तो भी दिक्कत हो सकती है.

-बालों की सफ़ाई न करना. अगर आप कभी-कभार ही बाल धोती हैं तो आपके स्कैल्प (सिर की स्किन) पर बैक्टीरिया और फंगस अपना घर बना लेते हैं.

-आपको कोई स्किन कंडीशन हो सकती है जैसे एक्जिमा, सोरायसिस, या डैंड्रफ़.

-स्ट्रेस.

-किसी हेयरकेयर प्रोडक्ट से रिएक्शन होना.

Image result for hair bacteria

हमारे बालों में भतेरे माइक्रोऑर्गैनिज्म पनप रहे होते हैं. (फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

कैसे पता चलेगा कि आपको ‘स्मेली हेयर सिंड्रोम’ है

आपके सिर से बदबू तो आएगी ही. पर इसके साथ-साथ कुछ और लक्षण हैं. जैसे:

- ददोड़े (स्किन रैशेस)

- सिर की स्किन में सूजन आ जाएगी.

- खुजली

- पस वाले दाने

इसका क्या इलाज है

दो तरीके है. अगर आपको ‘स्मेली हेयर सिंड्रोम’ के सारे सीरियस वाले लक्षण है तो आपको फौरन डॉक्टर को दिखाना चाहिए. वो आपको खाने और सिर पर लगाने की कुछ दवाइयां देंगे.अगर आपको कोई सीरियस लक्षण नहीं है. और दिक्कत सिर्फ़ बदबू है तो आप घर पर भी कुछ जुगाड़ कर सकती है. जैसे:

-नींबू का जूस आपके सिर को किसी भी तरह के फंगल इन्फेक्शन से बचाकर रखेगा. इसके लिए आपको बस इतना करना है कि एक बाल्टीभर पानी में नींबू का चार चम्मच जूस डाल दीजिए. इसको अच्छे से मिला लीजिए. फिर इस सॉल्यूशन से अपने बाल धोइए. ऐसा लगातार कीजिए.

-इसके अलावा दो चम्मच नींबू जूस को एक कप पानी में डाल दीजिए. उसे अच्छे से मिला लीजिए. फिर इस सॉल्यूशन को अपने सिर की स्किन पर लगा लीजिए. 10 मिनट तक लगा रहने दीजिए. उसके बाद बाल धो लीजिए. ऐसा हफ़्ते में दो बार कीजिए.

-बेकिंग सोडा भी बहुत काम आ सकता है. एक कप में पानी लीजिए. उसमें एक चम्मच बेकिंग सोडा मिला लीजिए. पानी हल्का गुनगुना होना चाहिए. इसे अपने स्कैल्प पर लगा लीजिए. 10 मिनट तक मसाज करिए. फिर धो दीजिए.

Image result for baking soda

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

-इसके अलवा नारियल का तेल, टमाटर का जूस, नीम का तेल भी काफ़ी मददगार साबित होते हैं.

-सही शैम्पू का इस्तेमाल कीजिए. ऐसा शैम्पू खरीदिए जिसमें सल्फ़र या जिंक हो. बोतल पलट कर देख लीजिएगा, आपको पता चल जाएगा.

-अपनी डाइट सही रखिए. कुछ चीज़ें खाने से आपके शरीर और बालों से बदबू आती है. जैसे लहसुन और प्याज़. इसे कंट्रोल में रखें. हरी सब्जियां, फल, और ढेर सारा पानी पीजिए.

-अब फ़र्ज़ कीजिए आप किसी पार्टी में जा रही हैं और आपके पास बाल धोने का समय नहीं है. तो आप क्या करेंगी? अपने कंघी पर थोड़ा सा परफ्यूम छिड़क लीजिए. फिर उससे बालों  को कॉम्ब कर लीजिए. कुछ समय के लिए तो दिक्कत दूर हो जाएगी.

पढ़िए: चेहरे पर किस जगह हुआ है पिंपल? ये सेहत से जुड़े बड़े राज़ खोलता है

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group