आपके नाखूनों पर धारीदार लकीरें क्यों बन जाती हैं?

ये नॉर्मल है या किसी बीमारी की तरफ़ इशारा?

सरवत फ़ातिमा सरवत फ़ातिमा
अगस्त 16, 2019
(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

अगर शरीर का कोई ऐसा अंग है जिसे हम हद से ज्यादा इग्नोर करते हैं तो वो हैं नाख़ून. ज़्यादा से ज़्यादा उन्हें काट लेते हैं. काम ख़त्म. पर जिस चीज़ पर हमारा ध्यान नहीं जाता वो ये कि नाख़ून हमारी सेहत के कई राज़ खोलते हैं.

अब अपने नाखूनों की तरफ़ देखिए. क्या इनपर कुछ लकीरें दिख रही हैं?

ये क्यों होती हैं?

आपके नाख़ून कुछ सेल्स के बने होते हैं. इनमें ऐसी लकीरें आने के पीछे कुछ कारण होते हैं-

-एक्जिमा एक तरह की स्किन कंडीशन है. इसमें स्किन पर सफ़ेद चकत्ते पड़ जाते हैं. उसकी वजह से नाखूनों पर धारियां बन जाती हैं.

-स्किन में बहुत ज़्यादा ड्राईनेस भी एक वजह है.

-अगर आपके शरीर में प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक, विटामिन की कमी है तो नाखूनों पर ऐसे निशान बन जाते हैं.

Image result for lines on nails

क्या इनपर कुछ लकीरें दिख रही हैं? (फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

क्या होता है इन लकीरों का मतलब

ऐसी लकीरें आपके नाखूनों की शुरुआत से लेकर उनकी जड़ तक होती है. ये ज़्यादातर तब होता है जब नए सेल्स बनने बंद हो जाते हैं. पर अगर इसके साथ-साथ नाखूनों का रंग भी बदल रहा है तो ये एक हेल्थ प्रॉब्लम है.

वहीं अगर नाख़ून पर बनी लकीरें चौड़ाई में हैं तो ये एक बीमारी एक तरफ़ इशारा है. इसे बोज़ लाइन्स भी कहा जाता है. जब तक ये ठीक नहीं हो जाती, तब तक आपके नाख़ून निकलना भी बंद हो जाते हैं. ये लकीरें बीसों नाखूनों पर बन जाती है. इसकी वजह हो सकती है

Image result for lines on nails

कहीं आपके नाख़ूनों पर लकीरें चौड़ाई में तो नहीं? (फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

-किडनी की बीमारी

-थायरॉयड

-डाइबिटीज़

कब दिखाना चाहिए डॉक्टर को?

अगर आपके नाख़ूनों में कोई भी बदलाव आ रहा है तो डॉक्टर को ज़रूर दिखाइए. अगर आपके नाख़ून पर चोट लगी है तो उसे ठीक होने के लिए कुछ हफ़्तों का समय दीजिए. पर अगर-

-नाख़ूनों पर कट लगा है

-नाख़ून दब गया है

-उधड़ गया है

-या नाखूनों के नीचे ब्लीडिंग हो रही है

तो डॉक्टर को ज़रूर दिखाइए

डॉक्टर हो सकता है आपको यूरीन और किडनी का टेस्ट करवाने के लिए बोलें. ये पता लगाने के लिए कि कहीं आपको किडनी की बीमारी या डाइबिटीज़ तो नहीं है.

इलाज

नाख़ूनों पर लकीरों का मतलब हमेशा बीमारी नहीं होता है. कभी-कभी ये शरीर में पोषण की कमी की वजह से भी होता है. इस केस में डॉक्टर आपको सप्लीमेंट देंगे. पर अगर ऐसा नहीं है तो आपके टेस्ट से ही पता चलेगा कि असल में दिक्कत क्या है. उसी हिसाब से डॉक्टर आपका इलाज करेगा.

पढ़िए: हाथ-पैरों में अचानक क्यों होने लगती है सुई सी चुभन

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group