बैंक लॉकर में चुपचाप पड़ा रहता है आपका सोना, उसका 'गोल्ड डिपॉजिट' बनाकर ऐसे कमाएं ब्याज

इस स्कीम में आपके सोने की जूलरी सेफ रहेगी. और ब्याज के रूप में पैसा भी मिलेगा.

नेहा कश्यप नेहा कश्यप
अप्रैल 09, 2019

महिलाएं सोने के जेवरों को लेकर बहुत परेशान रहती हैं. डर लगा रहता है कि घर से चोरी न हो जाए. इसीलिए बैंक के लॉकर रख देती हैं. लेकिन लॉकर का किराया भी तो देना होता है. फिर उसे लेकर परेशान हो जाती हैं. मगर आप अपने सोने के कमा सकती हैं. कैसे?

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने एक स्कीम शुरू की है. रीवैंप्ड गोल्ड डिपॉजिट स्कीम. इसमें आपके सोने की जूलरी सेफ रहेगी. और ब्याज के रूप में पैसा भी मिलेगा. हमने इस बारे में एसबीआई के जबलपुर ब्रांच में असिस्टेंट मैनेजर से बात की. उन्होंने हमें ये बताया.

ये है स्कीम

इस स्कीम का नाम रीवैंप्ड गोल्ड डिपॉजिट स्कीम (R-GDS) है. ये स्कीम आपको तीन ऑप्शन में मिलेगी. कम टाइम के लिए, मीडियम टाइम के लिए और लंबे टाइम के लिए. यानी आप अपनी जरूरत और इच्छा के हिसाब से उतने टाइम के लिए बैंक में सोना रख सकती हैं.

gold-new-3-660_110917032529_750x500_040919040407.jpg

कितना मिलेगा ब्याज

शॉर्ट टर्म का टाइम 1 से 3 साल का है. 0.50% (हर साल)

मीडियम टर्म 5 से 7 साल है. 0.55% (हर साल)

लॉन्ग टर्म 12 से 15 साल है. 0.60% (हर साल)

इन्हें मिलेगा स्कीम का फायदा

-कोई भी व्यक्ति अकेले या जॉइंट के रूप से इस स्कीम में सोना जमा कर सकता है.

-प्रॉपराइटरशिप और पार्टनरशिप फर्म.

-ट्रस्ट जिसमें म्यूचुअल फंड और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड शामिल हों.

-कंपनियां, चैरिटेबल इंस्टीट्यूट, वगैरह.

hallmark_gold_750x500_040919040433.jpg

कितना सोना कर सकते हैं जमा

कम से कम- 30 ग्राम (तीन तोला)

ज्यादा से ज्यादा- जितना भी आपके पास हो (कोई सीमा नहीं)

क्या-क्या जमा कर सकती हैं

सोने के सिक्के, बार, गहने वगैरह.

कैसे लें ये स्कीम-

बैंक जाएं. उनसे इस स्कीम के बारे में पूछे और फॉर्म मांगें. फॉर्म भरकर जमा कर दें. इस स्कीम के लिए फॉर्म के साथ आईडी प्रूफ, पते का प्रूफ और इन्वेंटरी फॉर्म भरकर जमा करना होगा. इन्वेंट्री फॉर्म वो फॉर्म होता है, जिसमें आप उन गहने के बारे में डिटेल देते हो, जिन्हें इस स्कीम के लिए बैंक में जमा कर रहे हों. इसकी एक कॉपी ग्राहक यानी आपके पास और दूसरी बैंक के पास रहती है. इसके अलावा बैंक में जो गहने जमा किए हैं,उसके लिए सुबूत के तौर पर एक सर्टिफिकेट मिलेगा. इसे बैंक की नोडल ब्रांच आप तक पहुंचाएगी.

इसे भी पढ़ें- शादी सीज़न में सोने के गहने खरीदते हुए कहीं आप ठगी तो नहीं जा रहीं?

 

 

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group