6 गुंडे ट्रेन में लड़की को छेड़ रहे थे, भाई ने रेल मंत्री को टैग किया और तुरंत पुलिस पहुंच गई

अफसोस की बात ये है कि उन 6 गुंडों में एक आर्मी का जवान था.

लालिमा लालिमा
मार्च 14, 2019
प्रतीकात्मक तस्वीर- इंडिया टुडे/pixabay

स्वयं (काल्पनिक नाम) कुछ दिन पहले ट्रेन में सफर कर रही थी. वो विशाखापट्टनम से दिल्ली जाने वाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस में थी, वो भी दिल्ली जा रही थी. गाड़ी का नंबर था 22415. स्वयं की बर्थ एसी कोच में थी.

उसकी बर्थ के पास करीब 5-6 लड़के आकर बैठ गए. शराब पीने लगे, और स्वयं को छेड़ने लगे. उसका शोषण करने लगे. स्वयं ने इस बात की शिकायत किसी तरह अपने भाई से की. उसका भाई उस वक्त रांची में था. उसने इस मामले में तुरंत ट्वीट कर रेल मंत्री पीयूष गोयल से मदद मांगी. अच्छी बात तो ये हुई, कि रेल मंत्री ने लड़के के ट्वीट पर ध्यान दिया. और लड़की की मदद के लिए पुलिस भेज दी.

ये घटना हाल-फिलहाल की है. स्वयं के भाई ने पीयूष गोयल को ट्वीट कर लिखा, 'सर, आपकी मदद की जरूरत है. मेरी बहन ट्रेन नंबर 22415 में सफर कर रही है. उसके बर्थ में 6 लोग आकर बैठ गए हैं. शराब पी रहे हैं, और मेरी बहन को छेड़ रहे हैं. मैं रांची में हूं. इस वक्त मैं बहुत परेशान हूं. प्लीज मेरी मदद करें.'

इस ट्वीट के बाद एसपी जीआरपी को मामले में एक्शन लेने का आदेश दिया गया. एसपी जीआरपी ने लड़के के ट्वीट के जवाब में लिखा, 'सूचना के लिए धन्यवाद. आप निश्चिंत रहें. आपकी मदद के लिए निरीक्षक जीआरपी आगरा कैंट 9454404418 को निर्देशित कर दिया गया है.'

tweet-01_031419101149_750_031419124422.jpgलड़की के भाई का ट्वीट. और रेलवे का जवाब.

इसके बाद ट्रेन जब आगरा कैंट पहुंची, तब सभी लड़कों को पकड़ लिया गया. लड़के ने एक बार फिर ट्वीट करके जानकारी दी कि उसकी बहन अब सुरक्षित है. उसने लिखा, 'हां सब सुरक्षित है. तुरंत मदद के लिए शुक्रिया. बहुत अच्छा महसूस हो रहा है.' एक और बात, रेलवे पुलिस ने जिन लड़कों को पकड़ा है, उनमें से एक लड़का आर्मी में था. 71 रेजिमेंट झांसी में तैनात है. उसे सेना पुलिस के हवाले कर दिया है.

इसे भी पढ़ें- फेसबुक पर फर्ज़ी आईडी बनाकर 50 से ज़्यादा लड़कियों को मोलेस्ट करते थे ये 4 लड़के

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group