डे केयर की आयाओं ने 3 साल की बच्ची का बर्बरता से यौन शोषण किया

पुलिस इलेक्शन में व्यस्त है.

सरवत फ़ातिमा सरवत फ़ातिमा
अप्रैल 15, 2019
सांकेतिक तस्वीर. (फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

हैदराबाद में एक जगह पड़ती है माधापुर नाम की. वहां बच्चों के लिए एक डे केयर सेंटर और प्राइमरी स्कूल है. कई मां-बाप अपने बच्चों को वहां काम कर रही आयाओं के भरोसे छोड़कर जाते हैं. साढ़े तीन साल की मुन्नी (नाम बदल दिया गया है) की मां वसुधा (नाम बदल दिया गया है) ने 10 अप्रैल की सुबह उसे स्कूल में छोड़ा. वसुधा के पति माधापुर में ही एक आईटी कंपनी में काम करते हैं. पर जब वो शाम को अपनी बेटी को लेने आईं, तो उसकी हालत देखकर रो पड़ीं.

उनकी साढ़े तीन साल की बच्ची का बहुत ही बर्बरता से यौन शोषण हुआ था. इस बार ऐसा करने वाला कोई पुरुष नहीं, बल्कि उसी स्कूल की दो आया थीं. परवीन और नरसम्मा ने बच्ची के वजाइना में पत्थर डाल दिए थे. साथ ही एक टहनी भी डाली थी. इस कारण वो बुरी तरह से ज़ख़्मी हो गई और उसे बहुर ज़्यादा ब्लीडिंग हो रही थी.

वसुधा उन आयाओं के ख़िलाफ़ शिकायत लिखवाने पुलिस स्टेशन भागी. पर पुलिस ने तो और भी हद कर दी. उन्होंने कोई तहकीकात शुरू नहीं की. ये बहाना बना दिया कि अगले दिन लोकसभा इलेक्शन हैं और वो उसमें मसरूफ हैं.

Image result for child abuse

(सांकेतिक तस्वीर). फ़ोटो कर्टसी: ट्विटर

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में माधापुर के सब-इंस्पेक्टर राममोहन रेड्डी ने कहा:

“बच्ची को तुरंत सरकारी अस्पताल लेकर जाया गया था. हमने शुरुआती जांच की. उसमें यौन शोषण का कोई सुबूत नहीं मिला था. पर बाद में पता चला कि आयाओं ने उसकी वजाइना में छोटे-छोटे पत्थर डाले थे. पर रिपोर्ट के मुताबिक बच्ची को ब्लीडिंग नहीं हुई.”

हालांकि आंध्रप्रदेश की ‘चाइल्ड राइट्स प्रोटेक्शन कमेटी’ के प्रेसिडेंट पी अचयूटा राव ने कहा कि 10 अप्रैल को ही वसुधा की शिकायत पुलिस ने दर्ज कर ली थी. पर उस दिन तहकीकात शुरू नहीं की थी. इलेक्शन का बहाना बना दिया. उनकी मांग है कि स्कूल मैनेजमेंट के ख़िलाफ़ कड़ी करवाई होनी चाहिए. साथ ही उनका लाइसेंस भी कैंसिल कर देना चाहिए क्योंकि वो बच्ची को यौन शोषण से बचा नहीं पाए. स्कूल ने इस मुद्दे पर अभी तक कुछ नहीं कहा है.

दोनों आयाओं को के ख़िलाफ़ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. पर दोनों को अभी तक गिरफ़्तार नहीं किया गया है.

आजकल अक्सर ऐसी ख़बरें आती हैं जिसमें स्कूल और डे केयर सेंटर में बच्चियों के साथ यौन शोषण और रेप होता है. वो दिन दूर नहीं जब पैरेंट्स बच्चों को शायद स्कूल भेजने से भी डरने लगेंगे.

पढ़िए: आदमी ने रेप करने की कोशिश की तो ख़ुद को HIV पॉजिटिव बताकर ख़ुद को बचाया

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group