क्या गर्भनिरोधक गोलियां खाने के बावजूद भी आप प्रेगनेंट हो सकती हैं?

एक छोटी सी गलती और सारी मेहनत बेकार.

सरवत फ़ातिमा सरवत फ़ातिमा
मार्च 14, 2019
(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

आकांशा की शादी को एक साल हो गया था. पर उसका और उसके पति की अभी बच्चा पैदा करने की कोई प्लानिंग नहीं थी. इसलिए आकांशा गर्भनिरोधक गोलियां खाती थी. जब कुछ दिन आकांशा को पीरियड्स नहीं हुए तो वो थोड़ा परेशान हो गई. उसे यकीन था कि वो प्रेगनेंट नहीं हो सकती. इसलिए उसने प्रेगनेंसी टेस्ट भी नहीं किया. पर जब दो हफ़्ते से ज्यादा हो गया तो उसे थक-हारकर प्रेगनेंसी टेस्ट करवाना पड़ा. और तब पता चला कि वो प्रेगनेंट है. डॉक्टर के पास भी हो आई. उसने भी कन्फर्म कर दिया. आकांशा को समझ में नहीं आ रहा था कि ये कैसे हुआ. वो लगातार गर्भनिरोधक गोलियां खा रही थी. इसके बावजूद वो प्रेगनेंट हो गई. ऐसा कैसे मुमकिन है?

दरअसल मुमकिन है.

पर उसपर बात करने से पहले ये जानना ज़रूरी है कि ये पिल्स कैसे काम करती हैं.

कैसे काम करती हैं गर्भनिरोधक गोलियां?

कुछ गर्भनिरोधक गोलियां ओवयूलेशन रोकती हैं. यानी वो ओवरीज़ को अंडा निकालने से रोकती हैं. अगर ओवरी से अंडा बाहर निकल आता है तो वो स्पर्म के संपर्क में आ सकता है. पर सारी पिल्स ऐसे काम नहीं करतीं. कुछ पिल्स गर्भाशय के अंदर बनने वाली परत को और मोटा कर देती हैं. इस वजह से स्पर्म अंडों तक नहीं पहुंच पाते.

गर्भनिरोधक गोलियां कितनी असरदार होती हैं?

ये जानने के लिए हमने डॉक्टर राधिका वर्मा से बात की. वो फ़ोर्टिस मुंबई में स्त्रीरोग विशेषज्ञ हैं. उन्होंने बताया:

“गर्भनिरोधक गोलियां काफ़ी असरदार होती हैं. अगर उनको सही तरह से खाया जाए और मिस नहीं किया जाए तो. अगर परफेक्ट्ली इस्तेमाल किया जाए तो ये 99.7 फ़ीसदी काम करती हैं. वो औरतें जो ये पिल्स रोज़ खाती हैं, उनमें 100 में से सिर्फ़ एक के ही प्रेगनेंट होने के चांसेज़ हैं. पर वो सिर्फ़ तब, जब इन्हें सही तरीके से खाया जाए. ज़्यादातर औरतों को पता नहीं होता कि वो गर्भनिरोधक गोलियां सही तरह से नहीं खा रहीं. इसलिए लगातार खाने के बाद भी वो प्रेगनेंट हो जाती हैं.”

Image result for contraceptive pills

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

कौन सी हैं वो गल्तियां जिसकी वजह से पिल्स असर नहीं करतीं?

डॉक्टर राधिका वर्मा ने हमें ऐसी चार वजहें बताईं:

1. एक भी दिन मिस करना

कुछ पिल्स आपको रोज़ खानी होती हैं. ऐसा करने पर ही वो परफ़ेक्ट तरीके से असर करती हैं. अगर एक दिन भी मिस हो जाए तो हॉर्मोन का लेवल वो नहीं रहता जो प्रेगनेंसी को रोक पाए. इसलिए अगर आप रोज़ गर्भनिरोधक गोलियां नहीं खा सकतीं, तो आपको गर्भ रोकने का कोई और तरीका ढूंढना पड़ेगा. इसके लिए आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए.

2. उलटी होना

अगर पिल खाते समय आपकी तबीयत ठीक नहीं है और आपको उल्टियां हो रही हैं तो हो सकता है ये पिल्स आपको असर न करें. उलटी करते समय हो सकता है ये पिल्स आपके शरीर से निकल जाएं. या आपके शरीर में पूरी तरह से अब्सोर्ब न हों.

अगर पिल खाने के बाद आपको उलटी हो जाए तो उसके फौरान बाद दूसरी पिल खाइए. अगले दिन अपनी पिल नॉर्मल टाइम पर लीजिए.

Image result for nausea

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

3. हर दिन एक ही समय पर पिल न खाना

हर दिन पिल खाना ज़रूरी तो है ही. एक ही समय पर लेना भी ज़रूरी है. ये हॉर्मोन के लेवल को मेन्टेन करता है. ज़्यादा से ज़्यादा आप पिल तीन घंटे ऊपर या नीचे खा सकती हैं. अगर वक़्त में काफ़ी फ़ेरबदल है तो आपको गर्भनिरोध का कोई और तरीका ढूंढना चाहिए. साथ ही अपने फ़ोन पर अलार्म भी लगा लीजिए ताकि आप समय न भूलें.

4. कुछ दवाइयां गर्भनिरोध के असर को कम करती हैं

कुछ दवाइयां पिल्स के साथ खाने से उसका असर कम हो जाता है. ये दवाइयां एंटीबायोटिक्स हो सकती हैं. अगर आप एंटीबायोटिक खा रही हैं तो कोई बैकप ज़रूर रखिए. अपना कोर्स ख़त्म करने के 48 घंटे बाद भी सतर्क रहिए.

 पढ़िए: वो चीज़ें जो आपको प्रेग्नेंसी के दौरान भूलकर भी नहीं करना चाहिए

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group