क्या है सेल्युलाईट, जिससे औरतों की स्किन लटकने लगती है और गड्ढे पड़ जाते हैं?

क्या सेल्युलाईट का कोई इलाज है?

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

सेल्युलाईट. आप सोच रही होंगी कि क्या बला है ये, घबराइए मत. ये आपके शरीर पर भी है. सेल्युलाईट आपके शरीर की चर्बी को कहते हैं जो लटकती है. यानी एक्स्ट्रा फैट. ये ज़्यादातर स्किन के अंदर होती है. जैसे आपकी जाघों पर. हिप्स पर. बाजुओं पर. वगैरह. शरीर के इन हिस्सों पर डिंपलनुमा गड्ढे भी नजर आते हैं. ये एक तरह की स्किन कंडीशन है. फैट को आपकी स्किन बांधकर रखने वाले फाइबर खिंच जाते हैं या फट जाते हैं. इस वजह से फैट बनाने वाले सेल्स साइज़ में बढ़ने लगते हैं. इसी कारण स्किन में गड्ढे पड़ जाते हैं.

जब बात सेल्युलाईट की आती है तो इसके बारे में औरतों को बहुत ही कम मालूमात हैं. जैसे ये क्यों होता है? इससे कैसे छुटकारा पाएं, वगैरह. इसलिए हमने बात की डॉक्टर अप्रितम गोयल से. ये क्यूटिस स्किन स्टूडियो, मुंबई में स्किन स्पेशलिस्ट हैं.

सेल्युलाईट का वज़न से कोई लेना-देना नहीं है

डॉक्टर गोयल कहती हैं:

“औरतों में एक बड़ी ग़लतफ़हमी होती है. उनको लगता है सेल्युलाईट का लेना-देना उनके वज़न से है. पर ये सच नहीं है. अगर आप ओवरवेट हैं तो ज़रूरी नहीं है आपके शरीर में सेल्युलाईट जमा हो या दिखे. एवरेज वेट वाली औरतों में भी सेल्युलाईट जमा होता है. 80 फ़ीसदी औरतों में सेल्युलाईट होता है. ये बहुत ही आम है. इसे एक्स्ट्रा फैट समझिए जिसका वज़न से कोई लेना-देना नहीं है.”

आपके जींस का इसमें बड़ा हाथ होता है

ये एक जेनेटिक चीज़ है. चांसेस है कि अगर आपकी मम्मी या नानी को सेल्युलाईट की दिक्कत है तो आपको भी हो सकती है. इसमें आपके खाना पचा पाने की दिक्कत का भी हाथ होता है.

Image result for cellulite

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

उम्र के साथ सेल्युलाईट भी बढ़ जाता है

हॉर्मोन का सेल्युलाईट से सीधा संबंध है. जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे आपका शरीर एस्ट्रोजन नाम का हॉर्मोन कम बनाने लगता है. ये हॉर्मोन आपके ब्लड वेसेल को सेहतमंद रखता है. अब ये ब्लड वेसेल क्या होता है? इन्हें ट्यूबनुमा चीज़ समझिए जो आपके शरीर के अलग-अलग हिस्से तक खून लेकर जाते हैं. एस्ट्रोजेन की कमी की वजह से ये ढंग से काम नहीं करते.

डॉक्टर गोयल कहती हैं:

“कम एस्ट्रोजन का मतलब हुआ खून का सर्कुलेशन सही नहीं है शरीर में. इस कारण आपके खाल के नए टिश्यू नहीं बनेगें. और पुराने टिश्यू टूटने लगते हैं.”

इसका इलाज क्या है?

डॉक्टर गोयल कहती हैं:

“कोई भी ऐसी एक्टिविटी जिससे आपके सेल्स तक ऑक्सीजन पहुंचे और आपकी खाना पचाने की शक्ति बढ़े जैसे मसाज और एक्सरसाइज, उससे सेल्युलाईट कम हो सकता है, पर पूरी तरह से ठीक नहीं. आप किसी स्किन स्पेशलिस्ट के पास भी जा सकती हैं. मार्किट में कुछ ट्रीटमेंट हैं जैसे लिपोसक्शन सेलुलोज. इससे सेल्युलाईट में कमी आती है. ये दिक्कत उन लोगों में ज़्यादा रहती है जिनका लाइफस्टाइल बहुत ही डल होता है. इसलिए आपको अपनी डाइट ठीक करनी पड़ेगी. एक्सरसाइज़ करनी पड़ेगी. तभी आपका सेल्युलाईट कंट्रोल में आएगा.”

पढ़िए: क्या है वो बीमारी जिसमें गर्भाशय वजाइना से बाहर गिर जाता है?

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group