#MeToo: जो पूछ रहे थे इतने साल बाद शिकायत का क्या फायदा, उनको मेनका गांधी का तगड़ा जवाब

बहुत नामी लोगों के कारनामे सामने आ चुके हैं.

लालिमा लालिमा
अक्टूबर 12, 2018
महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी. फोटो- पीटीआई

मीटू केसेज़ पर अब पब्लिक हियरिंग होगी. महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने ऐसा कहा है, शुक्रवार को. चार रिटायर्ड जजों की एक कमेटी बनेगी, जो इन मामलों पर सुनवाई करेगी.

इंडिया में इस वक्त मी टू मूवमेंट चल रहा है. सोशल मीडिया पर बहुत सारी औरतें सामने आ रही हैं. और अपनी लाइफ के किसी न किसी स्टेज पर हुए सेक्सुअल हैरेसमेंट की घटना पर बात कर रही है. बड़े-बड़े नामी लोगों के ऊपर आरोप लग रहे हैं. सबके मन में ये सवाल आ रहा था, कि इस मूवमेंट ने दबे हुए मामले तो बाहर ला दिए, लेकिन अब क्या?

मेनका गांधी इस कैंपेन को बहुत सॉलिड सपोर्ट दे रही हैं. फोटो- रॉयटर्स मेनका गांधी इस कैंपेन को बहुत सॉलिड सपोर्ट दे रही हैं. फोटो- रॉयटर्स

इसका जवाब भी मेनका गांधी ने दे दिया है. अब ये कि इन मामलों पर जन सुनवाई होगी. यूनियन मिनिस्टर का कहना है कि औरतों को सामने आना चाहिए और यौन उत्पीड़न की शिकायत करनी चाहिए. पीटीआई को मेनका गांधी ने मी टू मूवमेंट पर इंटरव्यू दिया और सुनवाई वाली बात कही.

असल में मेनका ने क्या कहा. यहां पढ़ें-

'मैं हर औरत पर विश्वास करती हूं. मैं हर औरत की शिकायत के पीछे उसके दुख और ट्रॉमा पर यकीन करती हूं. मी टू कैंपेन से जो भी मामले सामने आ रहे हैं, उनकी सुनवाई के लिए मैं एक कमेटी बनाने का प्रपोज़ल रख रही हूं. इस कमेटी में सीनियर ज्यूडिशियल मेंबर्स होंगे, जो इन केसेज़ को देखेंगे.'

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group