SBI ने ब्याज दर बदल दी हैं, जानिए उससे आपको क्या फायदा-नुकसान होगा

एसबीआई के कस्टमर्स के लिए अच्छी और बुरी दोनों खबर है.

सरकारी बैंक एसबीआई (भारतीय स्टेट बैंक) ने कल यानी 1 मई से अपने दो नियमों को बदला है. अगर आपका एसबीआई में अकाउंट है या आप इस बैंक की कोई सुविधा ले रही हैं, तो इसका आप पर भी असर पड़ेगा.

दरअसल एसबीआई ने अपने लोन और डिपॉजिट (कर्ज और जमा) रेट को सीधे आरबीआई (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) के रेपो रेट और रिजर्व रेपो रेट से जोड़ दिया है.

इससे आपको क्या फायदा-नुकसान होगा, ये जानने से पहले आरबीआई, रेपो रेट और रिजर्व रेपो रेट समझें.

आरबीआई-

आरबीआई यानी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया. ये सभी सरकारी और प्राइवेट बैंकों को कंट्रोल करता है. उनके कामकाज देखता है. बैंकों के लिए नियम कायदे बनाता है. आरबीआई ही बैंकों के लिए ‘रेपो रेट’ और ‘रिवर्स रेपो रेट’ तय करता है.

rbi-logo_145499128969_650x425_020916094549_050219015735.jpg

रेपो रेट-

सरकारी और प्रायवेट बैंकों के पास फिक्स अमाउंट में पैसा होना चाहिए. वो पैसा वो आरबीआई से लेते हैं. आरबीआई बैंकों को जिस रेट पर कर्ज देती है, उसे ही रेपो रेट कहते हैं. सरकारी और प्रायवेट बैंक भी उसी रेट पर अपने ग्राहकों को लोन देते हैं. जैसे हाउसिंग लोन, गाड़ी के लिए लोन. तो रेपो रेट कम होने का मतलब है कि ग्राहकों को भी लोन पर घटी हुई दर से ब्याज देना होगा. यानी कर्ज सस्ते हो जाएंगे. जो अच्छी खबर है.

रिवर्स रेपो रेट-

रेपो रेट का उलटा रिवर्स रेपो रेट होता है. जैसे आरबीआई से कर्ज की ब्याज दर रेपो रेट होती है. वैसे ही बैंक जब आरबीआई के पास अपना पैसा जमा करते हैं, तो उन्हें जिस दर से ब्याज मिलता है. उसे रिवर्स रेपो रेट कहते हैं.

 

new_indian_currency-750_043019100623_050219020501.jpg

अब बात करते हैं आपके फायदे और नुकसान की.

क्या होगा फायदा

जैसा कि हमने बताया कि एसबीआई ने ब्याज दर को रेपो रेट से जोड़ दिया है. यानी अब एसबीआई से 30 लाख रुपये तक का लोन लेने पर पहले के मुकाबले 0.10 फीसदी कम ब्याज देना पड़ेगा. इससे पहले 30 लाख रुपये तक के लोन की ब्याज दर 8.60 से 8.90 फीसदी थी. यानी अब लोन सस्ता मिलेगा.

bank-2_750x380_040219054833-1_750x500_050219020535.jpg

क्या होगा नुकसान

आपको बचत खाते पर कम ब्याज मिलेगा. एसबीआई की वेबसाइट पर इसकी जानकारी दी है. इसके मुताबिक जिन लोगों के खाते में एक लाख रुपये से अधिक और एक करोड़ रुपये से कम पैसा होगा, उन्हें 3.25 प्रतिशत की दर से सालाना ब्याज मिलेगा. वही जिन लोगों के खाते में एक लाख रुपये से कम पैसा होगा, उन्हें 3.5 प्रतिशत के रेट से ब्याज मिलेगा.

 ये भी पढ़ें- बैंक में लॉकर खोल रही हैं, तो इन बातों को गांठ बांध लें

 

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group