156 महिला खिलाड़ियों का यौन शोषण करने वाले के खिलाफ ताकतवर विरोध प्रदर्शन

सोचिए उस आदमी का गुनाह कितना बड़ा होगा जिसको 175 साल की कैद हुई.

आपात प्रज्ञा आपात प्रज्ञा
अगस्त 20, 2018

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हर खेल के लिए पोशाक तय होती है. सभी खिलाड़ियों को एक ही तरह की पोशाक पहन कर खेलना होता है. अमेरिका की एक जिमनास्ट, सिमोन बाइल ने अपनी ड्रेस खुद डिज़ाइन की. ये ड्रेस खेल के लिए तो थी ही इसका एक खास मकसद भी था. ये ड्रेस उन 150 से भी ज़्यादा महिलाओं को समर्पित थी जिन्हें लैरी नासर के गुनाहों का शिकार होना पड़ा था. लैरी नासर, वो जिमनास्ट डॉक्टर जिसने 150 से भी ज़्यादा महिलाओं का यौन शोषण किया. आखिर में उसे 175 सालों की जेल हुई.

जिमनास्ट सिमोन बाइल का ये कदम सराहनीय है. जिमनास्टिक्स को हाल के दिनों में बहुत पहचान मिल रही है. इंडोनेशिया में एशियन गेम्स चल रहे हैं. इनके साथ ही अमेरिका में ‘यूएस जिमनास्टिक्स चैंपियनशिप’ भी चल रही है. इसी चैंपियनशिप के फाइनल में सिमोन ने ये खास ड्रेस पहनी. ये ड्रेस ‘टील’ कलर के हल्के शेड से बनी हुई है. ये रंग यौन शोषण का शिकार हुई महिलाओं के समर्थन के लिए होता है. जैसे पिंक कलर एड्स रोगियों के समर्थन के लिए होता है. आपने साउथ अफ्रीका की क्रिकेट टीम को पिंक जर्सी पहने खेलते देखा होगा. बस वैसे ही सिमोन हल्के टील रंग की ड्रेस पहन कर अपने साथ उन सभी महिलाओं के समर्थन के लिए आगे आईं जो लैरी नासर के द्वारा यौन शोषण का शिकार हुई थीं. ‘द गार्ज़ियन’ की रिपोर्ट के मुताबिक सिमोन ने कहा- ‘ये रंग उन सभी सर्वाइवर्स के लिए है. मैं उन सबके साथ हूं और मुझे लगता है कि ये रंग बहुत खास है, ये हम सबको एक करता है.’

सिमोन पांच बार नेशनल चैंपियनशिप जीत चुकी हैं. रियो ओलंपिक्स में चार स्वर्ण पदक भी जीत चुकी हैं. सिमोन हर तरह का जिमनास्ट करती हैं, फ्लोर एक्सर्साइज़, बैलेंस बीम, वॉल्ट और अनईवन बार्स.

कई फेमस खिलाड़ियों ने लैरी नासर के खिलाफ शिकायत की थी. सबसे पहले लैरी नासर की शिकायत जिमनास्ट रैचल ने की. रैचल की ही हिम्मत थी कि बाकी 156 लड़कियों ने भी साहस दिखाया और दुनिया के सामने आकर लैरी नासर की सच्चाई सामने लाईं. जब लैरी नासर के खिलाफ मुकदमा चल रहा था उसने 10 लड़कियों का यौन शोषण करने की बात स्वीकार की थी लेकिन सभी 156 लड़कियां कोर्ट में आईं और सबने लैरी के गुनाहों का चिट्ठा खोल कर रख दिया.

ये सब मुमकिन हुआ जज रोजलिन अक्विलिना की वजह से. लैरी ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया पर तब भी रोजलिन ने सभी 156 लड़कियों के स्टेटमेंट लिए. लैरी के लिए सिर्फ सख्त सज़ा ही काफी नहीं थी उसके गुनाहों का सबके सामने आना भी ज़रूरी था.

सुनवाई शुरू हुई तो नासर नज़र झुकाए सब सुन रहा था. उसके साथ जिम कोच रह चुके टॉम ब्रेनन ने उससे कहा, ‘कम से कम उनसे नजरें तो मिलाओ, जिनके तुम गुनाहगार हो.’ नासर ने फिर वो सब सुना जो उसने किया था. सब एक साथ. कुछ लड़कियां बात करने में झिझक रही थीं लेकिन रोजलिन ने उन्हें हिम्मत दी और कहा- ‘मेरी ओर देख कर बात करो. जैसे तुम अपनी मां से बात कर रही हो.’

लैरी खिलाड़ियो का इलाज करने के बहाने उनका यौन शोषण करता था. खिलाड़ियों को समझ आता था फिर भी उनके लिए ये समझना बहुत मुशकिल था कि ये यौन शोषण है. जेनिफ़र रूड वॉलीबॉल खिलाड़ी थीं. एक बार लैरी उनका इलाज कर रहा था. लैरी ने जेनिफ़र से कहा कि गुप्तांग और आस-पास की जगहों को दबाना उनके ट्रीटमेंट का हिस्सा है. फिर जेनिफ़र को टेबल पर उल्टा लेटने को कह दिया. जेनिफ़र को तथाकथित इलाज के समय असहज महसूस हुआ. मगर वो सोचती रहीं कि इलाज के बीच इस तरह रुकना उनकी छवि को नुकसान पहुंचाएगा. ऐसा ही बहुत सी खिलाड़ियो के साथ हुआ.

लैरी सबको यही कहता कि ये उनके इलाज का हिस्सा है. वो उन्हें सहलाते हुए कहता कि शारीरिक दर्द से तो तुम उबर जाओगी मगर मानसिक दर्द से बचकर रहना. वो इतनी आसानी से नहीं जाता. चूंकि उसका कद भगवान जैसा था, उसके लिए अगली लड़की को ये विश्वास दिलाना आसान था कि जो वो कर रहा है, वो यौन शोषण नहीं है.

लैरी ने काइल नाम की महिला का 6 साल की उम्र में यौन शोषण किया था. सुनवाई के दौरान काइल ने कहा- ‘छोटी बच्चियां हमेशा छोटी नहीं रहतीं. वो मजबूत औरतें बनती हैं और तुम्हारी दुनिया में आग लगाने के लिए वापस आती हैं.’

लैरी अमेरिकी जिमनास्टिक्स के लिए बनाई गई टीम का हिस्सा था. वो बहुत अच्छा डॉक्टर था. मगर हर अच्छा काम करने वाला व्यक्ति अच्छा इंसान हो, जरूरी नहीं. वो अपने हुनर का इस्तेमाल लड़कियों के यौन शोषण के लिए करता था. लैरी को 175 सालों की सज़ा हुई वो भी महज़ 7 दिन की कार्यवाही में.

मगर सिमोन जैसी महिलाएं जबतक हैं, न सिर्फ सभी औरतों को यौन शोषण से लड़ने की हिम्मत मिलती रहेगी, बल्कि उन्हें ये विश्वास भी रहेगा कि उनके जैसी, उनकी अपने बहनें उनका साथ देने के लिए खड़ी हैं.

 

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group