आपके प्राइवेट पार्ट की बाहरी सतह पर दाने निकल आते हैं, क्या ये घबराने की बात है?

शर्म के मारे सेहत से समझौता मत कीजिए.

ऑडनारी ऑडनारी
दिसंबर 14, 2018

पता है औरतों की सबसे बड़ी क्या दिक्कत है? शर्म. इस शर्म के चलते वो कई ज़रूरी चीज़ों पर खुलकर न बात कर पाती हैं न कुछ पूछ पाती हैं. ख़ासतौर पर जब बात उनके प्राइवेट पार्ट्स की आती है. जैसे, एक महीना पहले मैं अपनी एक सहेली से मिली. बड़े दबे शब्दों में उसने मुझे अपनी दिक्कत के बारे में बताया. उसकी वजाइना के आसपास दाने हो रहे थे. जब मैंने उससे पूछा कि उसने डॉक्टर को दिखाया या नहीं, तो पता है उसने क्या कहा. उसने कहा-“कैसे दिखाऊं? मुझे शर्म आती है!”

इस शर्म के चलते वो अपनी सेहत से समझौता करने को तैयार है. तकलीफ़ झेलने को तैयार है. पर अपनी सेक्शुअल हेल्थ के बारे में किसी से बात करने को तैयार नहीं है. ऐसा सिर्फ़ मेरी सहेली के साथ नहीं हुआ है. ऐसा हम औरतों के साथ अक्सर होता रहता है. न खुलकर बात करना और बड़ी मुसीबत खड़ी कर देता है. इसलिए हमनें डॉक्टर अनुराधा कपूर से बात की. वो मैक्स अस्पताल नई दिल्ली में एक स्त्रीरोग विशेषज्ञ हैं. उन्होंने हमें वजाइना के पास दाने या रैशेज होने की चार वजहें बताईं:

1. क्या आप वजाइना के पास शेव या वैक्स करती हैं

ज़रूरी नहीं कि वजाइना के पास दाने होने का मतलब ये है कि कुछ ख़तरा है. पर हां. ये बहुत अनकंफर्टेबल होता है. आपको इस चीज़ का ध्यान रखना चाहिए कि आपके प्राइवेट पार्ट के पास का एरिया बहुत सेंसिटिव होता है, इसलिए वैक्सिंग या शेविंग करते समय बहुत सावधानी रखनी चाहिए.

डॉक्टर अनुराधा कपूर कहती हैं:

“क्या आप वजाइना के आसपास शेव करती हैं. अगर उसके बाद आपको वहां कुछ दाने महसूस हों तो इसका मतलब है आपको फोलिक्युलाईटिस हो गया है. ये एक तरह का इन्फेक्शन है. बालों की जड़ों में. एक बात और. रेज़र बहुत शार्प होता है और उससे बाल हटाने से खाल में एलर्जी हो सकती है. ख़ासतौर पर अगर आपकी सेंसिटिव स्किन है.”

2. क्या आपको बर्थोलिन सिस्ट है?

डॉक्टर अनुराधा कपूर बताती हैं कि बर्थोलिन ग्लांड्स वजाइना की ओपनिंग के अगल-बगल होते हैं. इन ग्लांड्स से एक तरह का फ्लूइड निकलता है, जो उस एरिया को पर्याप्त गीलापन मुहैया करवाता है. पर अगर उसकी ओपनिंग ब्लॉक हो जाए तो ये फ्लूइड अंदर ही अंदर जमा हो जाता है. जमा होने के बाद ये ग्रंथि या सिस्ट बन जाता है. इसे बर्थोलिन सिस्ट कहते हैं. ये वक़्त के साथ चले जाते हैं. ज़्यादा परेशान होने वाली बात नहीं है. पर अगर ये आपको बहुत ज़्यादा दिक्कत दे रहे हैं तो गर्म पानी से नहाइए और सिकाई भी करिए. अगर इससे ठीक न हो तो डॉक्टर को दिखाइए.

vaginal_013017053249_121418083155.jpgहर्पीस की वजह से वजाइना के पास दाने हो जाते हैं. फ़ोटो कर्टसी: Shutterstock

3. कभी कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस का नाम सुना है?

नहीं नाम सुनकर डरिए मत. इसका मतलब हुआ कि आपका वजाइना के पास दाने किसी एलर्जी की वजह से हुए हैं.

डॉक्टर अनुराधा कपूर कहती है-“आपकी वजाइना की स्किन बहुत सेंसिटिव होती है. अगर आपको किसी चीज़ से एलर्जी है और वो चीज़ आपकी खाल के आसपास है तो आपको एलर्जी हो जाएगी. इसमें छोटे-छोटे दाने भी हो जाते हैं. ये सेनेटरी पैड, वजाइनल वॉश, या कॉन्डम की वजह से हो सकता है. साथ ही वजाइना से निकलता हुआ डिस्चार्ज, यूरीन, या सीमेन भी कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस की वजह हो सकते हैं. मार्किट में ऐसी कई एंटीबायोटिक मिलते हैं जो इस कंडीशन से निजात दिलाने में मदद करते हैं. पर उससे पहले आपको डॉक्टर को दिखाना ज़रूरी है.”

4. हो सकता है आपको हर्पीस हो

अगर आप बिना कॉन्डम के सेक्स करती हैं तो ये आपकी सेहत के लिए थोड़ा ख़तरनाक है. ऐसे केस में वजाइना के पास दाने हो जाना बहुत आम है. इन दानों में अक्सर पस भरा होता है और ये सफ़ेद या पीले रंग के होते हैं.

डॉक्टर अनुराधा कपूर बताती हैं कि हर्पीस की वजह से वजाइना के पास दाने हो जाते हैं. पर ये अकेला लक्षण नहीं है. इसके साथ-साथ खुजली, लाली, सूजन, पेशाब करने में तकलीफ़, और बुखार भी होता है. तो अगर आपको ये सब कुछ हो रहा है तो डॉक्टर के पास ज़रूर जाइए.

 

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today.