क्या होता है जब एक औरत आधी रात को सुनसान सड़क पर अकेले निकलती है?

आधी रात को अकेले घर से निकलने वाली औरत की कहानी.

लालिमा लालिमा
मार्च 10, 2019
चुपचाप शॉर्ट फिल्म का एक सीन. फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट

क्या होता है जब एक लड़की, जो 17-18 साल की है, देर रात तक अपने घर नहीं लौटती? क्या होता है जब एक मां अपनी बेटी को खोजने के लिए देर रात सुनसान सड़कों पर निकलती है? क्या होता है जब एक गाड़ी उस अकेली औरत का पीछा करने लगती है? हम बताएं क्या होता है. उस औरत का 'रेप' हो जाता है. उसे गाड़ी के अंदर बैठा आदमी कैद करता है. सुनसान सड़क पर दूर तक गाड़ी चलती है. अंदर बैठा आदमी उस औरत का 'रेप' करता है. और फिर आखिरी में आदमी उस औरत को सुनसान सड़क पर फेंक देता है, गाड़ी आगे चली जाती है. औरत चोट खाई हुई, खाली सड़क पर पड़ी रहती है. 'चुपचाप' सब हो जाता है.

एक शॉर्ट फिल्म है 'चुपचाप'. उसमें ये सबकुछ दिखाया गया है, जो आपने अभी ऊपर पढ़ा. खैर, ये भले ही एक शॉर्ट फिल्म है, लेकिन ये सच्चाई है. हमारे देश की. फिल्म में बताया गया है कि औरत दिल्ली में रहती है. खैर, दिल्ली का क्या ही कहें, ऐसी खबरें तो 'आम' बात हो गई है.

capture-2_031019123930.jpgफोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट

फिल्म की शुरुआत एक कविता से होती है. कविता का टाइटल होता है 'चुपचाप'. ये कविता वही औरत लिखती है. वही मां लिखती है जो अपनी बेटी की सुरक्षा के लिए परेशान रहती है. वो अपनी बेटी को स्कूल छोड़ने जाती है. लेने जाती है. ट्यूशन छोड़ने जाती है, ट्यूशन लेने जाती है. एक दिन बीमार हो जाती है, जिस वजह से वो बेटी के साथ नहीं जा पाती. दवा खाकर सो जाती है. दस बजे उसके पति का फोन आता है. पूछता है कि उसकी बेटी कहां है? औरत कहती है कि वो ट्यूशन में है. उसे टाइम का पता नहीं होता है, क्योंकि वो दवा खाकर सोई रहती है. जब पता चलता है कि दस बज गए हैं, और बेटी अभी तक घर नहीं आई है, तो औरत परेशान होकर उसे खोजने जाती है.

सड़कों पर भटकती है. एक गाड़ी उसका पीछा करने लग जाती है. वो दौड़ती है. गिर जाती है सड़क पर. उठकर फिर भागती है. गाड़ी आती है, उसे उठा ले जाती है. उसका रेप होता है. उसे सड़क पर फेंक देते हैं. उसका पति आता है. बीवी को सड़क पर पड़ा देख रोने लगता है. औरत, आदमी को गाड़ी का नंबर बताती है. जो वो उस वक्त अपने दिमाग में नोट कर लेती है, जब गाड़ी उसे फेंक कर आगे निकल जाती है.

capture-3_031019124000.jpgफोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट

आदमी कहता है, 'पुलिस में शिकायत नहीं कर सकते. मीडिया, सोशल मीडिया, सब पीछे पड़ जाएंगे. हमारी 18 साल की एक बेटी है. उसका क्या होगा? हमारे रिश्तेदारों को हम क्या कहेंगे. उनके सामने हम बदनाम हो जाएंगे. हमारे पड़ोसियों को हम क्या कहेंगे. कैसे सामना करेंगे उनका? कोर्ट के चक्कर काटने पड़ेंगे. इससे अच्छा है कि पुलिस में शिकायत ही नहीं करेंगे हम. तुम पहले भी मेरी बीवी थी, आज भी हो. मैं तुम्हें उसी तरह प्यार करता हूं, जैसे पहले करता था. कोई कमी नहीं आएगी.'

औरत 'चुपचाप' सब सुनते रहती है. इधर उसकी बेटी, जो कि देर रात तक घर नहीं पहुंची थी. घर पहुंच जाती है. मां को कॉल करती है. कहती है कि दोस्त की बर्थडे पार्टी में चली गई थी, और उसका फोन स्विच ऑफ हो गया था.

इसे भी पढ़ें- राजधानी दिल्ली में हर दिन 10 औरतों का रेप होता है, इसी बात पे महिला दिवस मुबारक हो

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group