क्या पिंपल से छुटकारा पाने के लिए टूथपेस्ट इस्तेमाल करना चाहिए?

ये ट्रिक हमने कई यूट्यूब वीडियो में देखी है.

(फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

कुछ महीने पहले मुझे एक-दो पिंपल हो गए थे. नीम फेस वॉश से लेकर सारे देसी नुस्खे ट्राई कर लिए. पर कमबख्त जाने का नाम नहीं ले रहे थे. फिर एक दिन मेरी एक दोस्त ने मुझे एक आईडिया दिया. उसने कहा कि मैं अपने पिंपल पर टूथपेस्ट लगाऊं. इससे वो सूख जाएगा. मैं इतना श्यौर नहीं थी. पर मेरी दोस्त ने कहा कि उसने ऐसा कई लोगों को करते हुए देखा है. यूट्यूब पर भी देखा था. मैनें सोचा ट्राई कर लेते हैं. क्या जाता है. लगा लिया पिंपल पर टूथपेस्ट. लगाकर सो गए.

अब सुनिए सुबह क्या हुआ. जहां-जहां मैंने टूथपेस्ट लगाया था वहां-वहां स्किन जल सी गई. मन किया अपनी दोस्त को पकड़कर पीट दूं. क्या वाहियात सलाह दी यार.

पर क्या फ़ायदा. थोड़ा समय लगा स्किन ठीक होने में.

पर ये बेवकूफ़ी मैंने अकेले नहीं की है. मेरी तरह और भी लड़कियां हैं जो यूट्यूब पर वीडियो देखकर ये नुस्खे ट्राई करती हैं. या किसी दोस्त का कहना मान लेती हैं. बिना जाने कि उसका उनकी स्किन पर क्या असर पड़ेगा. जैसे ये टूथपेस्ट वाली ट्रिक बहुत आम है.

Image result for toothpaste on pimple

सोशल मीडिया पर ऐसी बहुत वीडियो मौजूद हैं. (फ़ोटो कर्टसी: ट्विटर)

अब सही में ऐसा करना चाहिए या नहीं, ये जानने के लिए हमने बात की डॉक्टर सुकृति शर्मा से. वो स्किन की डॉक्टर हैं काया स्किन क्लिनिक में. उन्होंने बताया:

“हां, मैंने भी कई बार इस बारे में सुना है. पर ऐसा हरगिज़ नहीं करना चाहिए. टूथपेस्ट में एक ड्राइंग एजेंट होता है. यानी सुखाने वाली प्रॉपर्टी. लोगों को लगता है कि वो पिंपल को भी सुखा देगा. इसलिए लगा लेते हैं. टूथपेस्ट चेहरे पर लगाने से स्किन उल्टा डैमेज हो सकती है. उसमें फ्लोराइड होता है. उसकी वजह से डर्मेटाइटिस होने का भी ख़तरा रहता है.”

अब ये डर्मेटाइटिस क्या होता है

ये एक तरह की कंडीशन होती है. इसमें स्किन पर फफोड़े पड़ जाते हैं. लाल रंग के चख्ते हो जाते हैं. इनमें खुजली होती है. कभी-कभी इनमें से पस निकलता है. बाद में सूखकर पपड़ी बन जाते हैं.

Image result for toothpaste

टूथपेस्ट को केवल अपने दांतों पर ही लगाइए. (फ़ोटो कर्टसी: Pixabay)

यही नहीं.

डॉक्टर विनीता शर्मा स्किन की डॉक्टर हैं गुरुग्राम में. वो प्राइवेट प्रैक्टिस करती हैं. वो बताती हैं:

“जिन लोगों की स्किन टोन ऑलिव होता है उन्हें तो कभी भी ये ट्रिक अपनानी नहीं चाहिए. वैसे तो आपका जो भी कॉम्प्लेक्शन हो, ये न ही करें. ऑलिव स्किन टोन के लिए इसलिए ख़ासतौर पर बोला गया है क्योंकि आपकी स्किन में जितना मेलानिन होता है वो टूथपेस्ट उतना ही रियेक्ट करता है. उतना ज़्यादा उसे नुकसान पहुंचाता है. अब मेलानिन क्या होता है? ऐसे समझिए कि इनकी मात्रा से आपका स्किन कलर डिसाइड होता है. जितना कम मेलानिन आपकी स्किन में होगा उतना लाइट आपका कलर होता है. जितना ज़्यादा होता है उतनी डार्क. पर एक बार फिर कहूंगी. अगर पिंपल हो रहे हैं तो डॉक्टर को दिखाइए. ये सब ट्राई मत करिए.”

तो अगली बार पिंपल हों तो मेरी तरह बेवकूफ़ी मत करिए.

पढ़िए: नाखूनों के पीले पड़ने को हल्के में मत लें, ये हो सकती हैं वजहें

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group