9 दिन सेंधा नमक खा लिया, अब जानिए उसकी ख़ास बातें

व्रतों के अलावा, अन्य दिनों में भी रखें सेहत का ध्यान.

उमा मिश्रा उमा मिश्रा
अप्रैल 13, 2019

नमक कई तरीके के होते हैं. एक वो साधारण वाला. जिसके ऐड में बच्चा दुकानदार से पूछता है, 'शुद्ध नहीं समझते'. एक होता है काला. एक होता है सेंधा. और एक होता है इश्क का. कर्टसी गुलज़ार.

 

पर हम बात कर रहे हैं सेंधा नमक की. क्यों? आपके लिए. आप नवरात्रों के व्रत करते हैं. सावन के सोमवार करते हैं. बाकी अपनी श्रद्धा के अनुसार. नमक जैसी जरूरी चीज, जिसके बिना हम रह नहीं सकते, उसके बारे में तो जानना बनता है बॉस. और सेंधा नमक तो हर व्रत में खाते हैं.

rock-salt-2343770_960_720_750x500_041319042232.jpgसेंधा नमक, चट्टानों से बनता है. फोटो कर्टसी- Pixabay

आम नमक से कैसे अलग है?

साधारण नमक में हाई सोडियम होता है. और सेंधा नमक में लो सोडियम होता है. सोडियम का काम है आपके शरीर में फ्लूइड को मेंटेन रखना. यानी खून और पानी का बहाव ठीक रखना. इसलिए सोडियम है बेहद जरूरी.

 

मगर यही सोडियम जब ज्यादा हो जाता है, तो खून तेज प्रेशर से बहने लगता है. और बढ़ जाता है ब्लड प्रेशर.

 

आम नमक निकलता है समुद्र से. सेंधा नमक मिलता है चट्टान से. सालों साल जमा हुए प्राकृतिक मिनरल्स की वजह से. इसलिए इसको रॉक साल्ट कहते हैं.

 

हमने डॉक्टर सुमित खन्ना से बात की. इनकी दिल्ली में ईस्ट पटेल नगर इलाके में वेस्ट साइड नाम से क्लीनिक है. इनसे हमने पूछा कि सेंधा नमक को व्रत के समय क्यों खाया जाता है. सुमित ने बताया,

 

'ऐसा माना जाता है, कि समुद्र से निकाले जाने के कारण इसमें किसी भी तरह के जीव-जानवर के डीएनए नहीं पाए जाते हैं. कुल मिलाकर, व्रत के पॉइंट ऑफ़ व्यू से ये ज्यादा प्योर है.'

lots-of-rock-salt-3633808_960_720_750x500_041319042315.jpgसेंधा नमक, समुद्र से निकलने वाले नमक से अलग होता है. फोटो कर्टसी- Pixabay

हमने डॉक्टर हनी खन्ना से भी बात की. ये मैक्स हॉस्पिटल में डाइटीशियन हैं. उन्होंने सेंधा नमक के बारे में जरूरी बातें बताई. जिन्हें आपको जरूर जानना चाहिए. डॉक्टर हनी खन्ना ने बताया-

 

- सेंधा नमक प्रेग्नेंसी में बहुत मददगार है. प्रेगनेंट औरत को अगर उल्टी, बीपी की समस्या, सिकनेस जैसी परेशानी हो रही है, तो वह सेंधा नमक का इस्तेमाल कर सकती है. इसके साथ ही मसल क्रैम्प, मोटापा जैसी समस्या भी दूर होती है. लेकिन सेवन करने वाले की उम्र से फर्क पड़ता है.

 

- पाचन यानी डाइजेशन को दुरुस्त रखता है. आयुर्वेद के मुताबिक़ यह नमक वसा (फैट) को जलाता है. पेट में ऐंठन को दूर करता है, भूख में सुधार करता है और पेट से गैस निकालता है.

 

- इस नमक में मैग्नीशियम सल्फेट नाम का मिनरल पाया जाता है. जो साइनस, अस्थमा जैसी सांस की तकलीफों को भी कंट्रोल में रखता है.

 

-स्टोन यानी पथरी को गलाने में मददगार होता है. सेंधा नमक को पीने के पानी में घोल के तौर पर, खाने में, सलाद में इस्तेमाल किया जा सकता है. ध्यान रहे कि नमक की ज्यादा मात्रा और साधारण नमक के साथ-साथ इस नमक का इस्तेमाल करना नुकसानदेह होता है. इसलिए इस बात को ध्यान में रखकर सेंधा नमक खाएं. 

 

- जैसा हमने बताया, ज्यादा मात्रा में साधारण नमक खाना आपका बीपी बढ़ा सकता है. इसके अलावा ज्यादा सोडियम आपको मोटापा, झुर्रियां, हाइपरटेंशन जैसी बीमारी का खतरा देता है.

 

इसे भी पढ़ें- चेहरे पर दाने, पीठ पर घमौरियां और पसीने की बदबू: लड़कियां कैसे निपटें गर्मियों से 

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group