राजस्थान रॉयल्स टीम 'पिंक ड्रेस' पहनकर मैदान में उतरेगी, अब कहिए पिंक लड़कियों का रंग है!

बच्चा पैदा होते ही उसे पिंक और ब्लू में बांट देते हैं. अब ये देखें.

सरवत फ़ातिमा सरवत फ़ातिमा
फरवरी 11, 2019
इस बार आईपीएल 23 मार्च से शुरू हो रहे हैं. फ़ोटो कर्टसी: ट्विटर

भई, आईपीएल शुरू होने वाला है. 23 मार्च से. तो ताज़ा ख़बर ये है कि राजस्थान रॉयल्स की टीम इस बार नीली जर्सी के बदले पिंक जर्सी पहनेगी. पिछले नौ सीज़न में राजस्थान रॉयल्स ने नीले रंग की ड्रेस पहनी थी. दरअसल पिछले साल, एक मैच के दौरान टीम ने गुलाबी पहना था. लोगों को टीम पर ये रंग बड़ा जंचा था. इसलिए उन्होंने फ़ैसला किया कि इस साल पूरे सीज़न के दौरान वो पिंक ही पहनेंगे.

टीम के कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कहा:

"पिछले साल हमनें कैंसर अवेयरनेस के लिए पिंक पहना था. एक मैच में. सबको बड़ा पसंद आया था. इस बार हमनें सोचा क्यों न पूरा सीज़न ही पहना जाए. लड़कों को भी ये आईडिया बड़ा पसंद आया. ऊपर से जयपुर को पिंक सिटी भी कहा जाता है."

गुलाबी रंग से राजस्थान रॉयल्स का पुराना रिश्ता है. टीम के ब्रैंड एम्बेसडर हैं शेन वॉर्न. उनके पास है एक पिंक कलर की गुड़िया. टीम में सब उसे पिंकी डॉल बुलाते हैं. जो भी ग्राउंड में आने में देरी करता है या बस में लेट पहुंचता है, उसे मिलती है पिंकी डॉल. ये उसे अपने साथ 24 घंटे तक रखनी पड़ती है. क्यों? मालूम नहीं. 

अब आते हैं मुद्दे की बात पर. ख़ुद सोचिए, अगर पुरुषों की एक टीम हरे या पीले रंग की यूनिफार्म पहनती तो क्या ये ख़बर बनती? नहीं. तो गुलाबी रंग पहनने पर ये सुर्खियां क्यों बन गई है? ट्विटर पर सब इसके बारे में बात कर रहे हैं. वो इसलिए क्योंकि पिंक आमतौर पर लड़कियों का रंग माना जाता है. आदमी इस रंग से थोड़ी दूरी बनाकर ही रखते हैं. किसी आदमी को पिंक शर्ट पहना देख लिया, तो लग जाते हैं लोग उसका मज़ाक उड़ाने में. यार, रंग से भेदभाव तो बचपन से ही शुरू हो जाता है. लड़का हुआ तो नीली चीज़ें, कपड़े ख़रीदते हैं. लड़की हुई तो गुलाबी.

अब ऐसे में अगर 11 मर्दों की टीम पिंक पहनकर मैदान में उतर रही है, तो ये ख़बर तो बनती है.

पढ़िए: जब 18 बॉल में 19 रन चाहिए थे, इंडिया ने न्यूजीलैंड के 3 विकेट गिरा दिए, लेकिन.....

 

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group