अश्विनी चौबे ने राबड़ी देवी पर घटिया बयान दिया, ट्विटर पर खींच कर क्लास लगा दी राबड़ी ने

दो-दो भाषाओं में सुट्ट कर दिए गए

प्रेरणा प्रथम प्रेरणा प्रथम
अप्रैल 14, 2019

बिहार में एक कहावत थी. जब तक रहेगा समोसे में आलू, तब तक रहेंगे बिहार में लालू. तेरा रहूंगा ओ मेरी शालू गाने की तर्ज पर बोलते थे लोग. खैर, लालू की सरकार तो चली गई. जब से नीतीश आए, तब से लालू का पॉवर में आना मुश्किल ही रहा है, और वो लौट नहीं पाए हैं. बिहार से बाहर लोग लालू को दो चीज़ों के लिए जानते आए हैं. एक तो उनका चारा घोटाला. दूसरा उनका जेल जाने पर अपनी पत्नी राबड़ी देवी को सीएम बना देना.

लोग कहते हैं कि जब राबड़ी देवी सीएम बनीं तब उन्हें साइन करना भी नहीं आता था. काफी आलोचना हुई थी लालू यादव और उनके परिवारवाद की. इस वजह से. पॉइंट ये है, कि राबड़ी देवी काफी समय से मीडिया की लाइमलाइट में रही हैं. और उनका नाम नया नहीं है. कई दूसरे नेताओं की पत्नियों की तरह, वो परदे के पीछे नहीं रही हैं. खैर, वो अपनी चॉइस है उनकी. और इसी वजह से राबड़ी देवी को उनकी अपनी चॉइस, उनकी अपनी निजी जिंदगी और पहनावे को लेकर टोकने का किसी को हक़ नहीं होना चाहिए.

rabri-devi-2_750x500_041419083702.jpgतस्वीर: ट्विटर

लेकिन ये सीधी सी बात कुछ लोग समझते नहीं हैं.

अश्विनी कुमार चौबे को ही ले लीजिए. बीजेपी के MP हैं. बक्सर से इस बार टिकट मिला है.  केन्द्रीय  राज्य मंत्री भी हैं. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय देख रहे. ये पढ़ के लगेगा कि भई समझदार आदमी होंगे. मंत्रालय संभाल रहे हैं. शब्द तो सम्भाल ही लेंगे. लेकिन हाय री उम्मीद. हमेशा धोखा दे जाती है. अश्विनी कुमार चौबे जो हैं वो पहुंचे सीतामढ़ी. नेपाल की सीमा के पास ही है. वहां उनको प्रचार करना था. जदयू प्रत्याशी का. प्रचार में बोल गए, राबड़ी देवी हमारी भाभी हैं. उनको घूंघट में रहना चाहिए.

बस फिर क्या था. राबड़ी देवी ने आव देखा ना ताव, ट्विटर पर घसीट के क्लास लगा दी उनकी.

rabri-tweet_750x500_041419083722.jpg

‘चौबे जी,औरत के घुघ तान के राखा तारू त काहे के औरत से डर लागता? 5 साल क्षेत्र में ना घुमलू तो औरत तोहार दाढ़ी नोंच के बिग ना दीयसन इहे डर लागता? जइबू क्षेत्र में वोट मांगे त सब औरत से तोहार जवाब मिली! आपना बेटी बहिन के घूघ तान के राखा तारा? दूसरके बेटी के खली घुघ ताने के कहा तारा?  

अश्विनी चौबे जैसे संघी लंपट भूल गए है कि मोहन भागवत जैसे बूढ़े संघी लोगों की हाफ़ पैंट से full पैंट हमने ही करवाया था.मनुवादी भाजपाई गुंडे घृणित मानसिकता के महिला विरोधी लोग है. ये भाजपाई मानसिक रूप से विक्षिप्त जीव है। पता नहीं घर में अपनी मां-बहन,बेटी को कैसे सम्मान देते है?’

खालिस भोजपुरी में राबड़ी देवी ने घूंघट के स्टेटमेंट को फींच कर रख दिया. अश्विनी चौबे से कहा, क्षेत्र में नहीं गए, तो अब डर लग रहा है कि औरतें  दाढ़ी खींच कर फेंक देंगी? वोट मांगने जाएंगे तो औरतों से उनको जवाब मिलेगा.

ashwini-2_750x500_041419083837.jpgतस्वीर: ट्विटर

ये विपक्ष की महिला नेताओं या पॉलिटिशियन्स को टार्गेट करके ऊल जलूल बातें करना फेवरेट टाइम पास हो गया है लोगों का. कभी कुछ बोलते हैं, कभी कुछ. कभी प्रियंका गांधी के जींस पहनने पर ट्रोल करते हैं, कभी स्मृति ईरानी के वज़न पर तंज कसते हैं.

अश्विनी चौबे पर अभी आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में FIR दर्ज हुई है. ख़बरों के अनुसार ये बक्सर में संकल्प सभा करके लौट रहे थे. सदर SDO ने रोक लिया. कहा आपके काफिले में तय से ज्यादा गाड़ियां हैं. कार्रवाई होगी. अश्विनी चौबे आगबबूला होकर फट लिए. ताव दिखाना शुरू कर दिया. इसी मामले में उन पर FIR दर्ज की गई है, ऐसा सूत्र बता रहे हैं.

 

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group