पीरियड की तारीख याद रखने के लिए ऐप का इस्तेमाल करती हैं तो सतर्क हो जाइए

हो सकता है आपकी इंटिमेट जानकारी लीक हो रही हो!

पीरियड ट्रैकर्स जैसे ऐप का चुनाव करते वक्त रहें सावधान. फोटो क्रेडिट: रॉयटर्स

अगले महीने पीरियड कब आएंगे? या पिछले दो-तीन महीने किस डेट पर पीरियड आए थे? ये सब याद रखना मुश्किल होता है. इनका रिकॉर्ड रखने के लिए पीरियड ट्रैकर यानी मैन्सट्रूल ऐप बनाए गए. ये ऐप न सिर्फ पीरियड की अगली तारीख बता देते हैं. बल्कि इनकी हेल्प से महिलाएं अपनी प्रेग्नेंसी भी प्लान करती हैं. इनमें फीड डेटा के आधार पर ये ऐप बता सकते हैं कि आप कब कंसीव कर सकती हैं, कब फर्टिलिटी ज्यादा होती है, कब संबंध बनाने से बचना चाहिए.

प्ले स्टोर पर बहुत से पीरियड ट्रैकर मिल जाते हैं. इन ऐप पर आप पीरियड्स का पहला दिन, आखिरी दिन, मूड स्विंग्स, पीरियड्स के दौरान की फीलिंग और भी कई जानकारियां शेयर कर देती हैं. ताकि ये ऐप आपकी मैन्सट्रूल साइकिल को समझ कर बेहतर रिजल्ट दें.

प्ले स्टोर पर मौजूद हैं कई पीरियड ट्रैकर्स प्ले स्टोर पर मौजूद हैं कई पीरियड ट्रैकर्स

लेकिन अगर आपको पता चले कि ये ऐप आपकी अंतरंग जानकारियां बेच रहे हैं. आपकी मंजूरी के बिना ही आपके के शरीर से जुड़े डेटा किसी के साथ शेयर कर रहे हैं. तो क्या आप फिर भी इन ऐप्स का इस्तेमाल करेंगी? पीरियड को ट्रैक करने के लिए ऐप्स जो भी जानकारी जुटाते हैं. वो इसे अपने प्रॉफिट के लिए शेयर कर सकते हैं. और इसकी मंजूरी आप खुद दे देती हैं.

कोई भी ऐप डाउनलोड करने के बाद आप उसके Terms and Conditions पर Agree करते ही बहुत सी जानकारियां खुद शेयर करने के लिए तैयार हो जाती हैं. और ये जरूरी भी होता है, अगर आपको वो ऐप यूज करना है. इसमें बैक अप और डेटा सिंक के लिए नेटवर्क एक्सेस की मंजूरी, आपकी ईमेल आईडी, फोन नंबर, लोकेशन कंपलसरी ही है.

अनजाने में हम खुद दे देते हैं मंजूरी अनजाने में हम खुद दे देते हैं मंजूरी

हाल ही में फेसबुक और दूसरे सोशल नेटवर्किंग साइट से डेटा लीक का मामला चर्चा में था. हमारी सोशल प्रोफाइल से जुटाए गए डेटा विज्ञापन कंपनियों को बेचे जाने की बात पर काफी बहस हुई थी. हम किसी भी ऐप, सोशल नेटवर्किंग साइट मतलब किसी भी ऑनलाइन सर्विस को जो जानकारी देते हैं. वो कंपनियों के लिए काफी महत्वपूर्ण होती है. इन डेटा का यूज टारगेटेड ऐड के लिए किया जाता है.

अक्सर आपके पास मेडिकल चेकअप के लिए कॉल आते हैं. कभी जिम ज्वॉइन करने तो कभी किसी मैच मेकिंग साइट का मेंबर बनने के लिए मेल आ जाते हैं. बिना रिक्वेस्ट के आपके पास आया कोई भी ऑफर, कॉल, ईमेल, ऐड और मैसेज कहीं न कहीं इस डेटा लीक, डेटा शेयरिंग और डेटा सेलिंग का हिस्सा है.

इसलिए अपने स्वास्थ्य और शरीर से जुड़ी हर बात जो निजी भी हो सकती है. उसके लिए सतर्क रहने की जरूरत है. ऐप स्टोर पर मौजूद बहुत से हेल्थ ऐप्स में से पीरियड ट्रैकर ऐप ज्यादा पॉपुलर हैं. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि इनमें से कौन से ऐप सेफ हैं. जो हमसे जुड़ा डेटा किसी ऐड कंपनी को बेचेंगे नहीं. या फिर उसे किसी लैब से शेयर या लीक नहीं करेंगे.

Copyright © 2018 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today.