शादी कराने वाली वेबसाइट्स के नाम पर चल रहे फ्रॉड की असली कहानी

अकाउंट बनाना बेहद आसान है, इसलिए क्राइम करना भी आसान है.

कुसुम लता कुसुम लता
जुलाई 08, 2019
सांकेतिक फोटो. कर्टसी- Pixabay

2 कहानी सुनिए

पहली- मेरे एक दोस्त के पापा ने अपनी 4 बेटियों की शादी के लिए सैकड़ों लड़के देखे. एक लड़की की शादी हुई नहीं कि दूसरी के लिए लड़का देखना शुरू. ऐसे में 4 लड़कियों की शादी के लिए करीब 20 साल तक वह लड़का ही देखते रहे. चारों की शादी के बाद वह एक बात बहुत ही विश्वास के साथ कहते हैं, ‘सोनार को सोने की वैसी परख नहीं होगी, जैसी मुझे इंसान की हो गई है.’

दूसरी कहानी, मेरी एक दोस्त शादी डॉट कॉम जैसी साइट्स से पचासों लड़कों से मिली. सबसे बात करने, उनकी समझदारी देखने, उन्हें समझने के बाद उसे एक लड़का पसन्द आया. उन दोनों की शादी हो गई और दोनों साथ में बेहद खुश हैं.

इन दोनों कहानियों से मिलती-जुलती कई कहानियां हमें अपने आसपास बहुत मिल जाएंगी. लेकिन, एक तीसरी कहानी भी है, जिसका सिलसिला अब शुरू हुआ है. और ये एक खतरनाक दिशा में तेजी से बढ़ रहा है.

... तो तीसरी कहानी शादी कराने वाली वेबसाइट्स के नाम पर ठगी करने वाले एक सिंडिकेट पर है. एक ऐसा प्लेटफॉर्म जहां से हम अपना जीवनसाथी तलाश करने की उम्मीद पाले बैठे हैं, वहां एक ऐसा गिरोह सक्रिय है जो हमारी उम्मीदों को ऐसे चकनाचूर कर रहा है कि उसे जुड़ना बहुतों के लिए जीवन का सबसे मुश्किल काम होता जा रहा है.

भारत में हर साल 10 से 12 मिलियन, यानी एक करोड़ से ज्यादा शादियां होती हैं. इनमें से 6 प्रतिशत शादियां ऑनलाइन फिक्स होती हैं. मतलब हर साल होने वाली 6 से 7 लाख शादियां ऑनलाइन पोर्टल्स के माध्यम से तय होती हैं.

ये डेटा मैट्रिमोनी डॉट कॉम के CEO एम जानकीरामन ने 2018 में फाइनेंशियल एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में दिया था. मैट्रिमोनी डॉट कॉम हमारे देश में ऑनलाइन मैचमैकिंग की सबसे बड़ी वेबसाइट्स में से एक है. भाषा, धर्म, एथनिसिटी के आधार पर 25 से ज्यादा मैचमेकिंग वेबसाइट्स ये कंपनी चलाती है. भारत मैट्रिमोनी का नाम आपने सुना होगा. ये इसी कंपनी की है. इनके अलावा शादी डॉट कॉम और जीवनसाथी डॉट कॉम इस मार्केट में बड़े प्लेयर्स हैं.

आगे बढ़ने से पहले कुछ लड़कियों की आपबीती सुन लीजिए-

प्रतीकात्मक फोटो. कर्टसी- Pixabayप्रतीकात्मक फोटो. कर्टसी- Pixabay

कस्टम का सामान छुड़वाने के नाम पर ठगे 12 लाख रुपये

मैंने शादी डॉट कॉम पर अपनी प्रोफाइल बनाई थी. वहां मुझे अजय नाम का लड़का मिला. वह इंग्लैंड में रहता था और पेशे से डॉक्टर था. प्रोफाइल में उसने इंग्लैंड का पता भी दिया था. उसने कहा था कि वह भारत में सेटल होना चाहता है. इस साल 4 जनवरी को उसने कहा कि वह अपना सामान कोरियर से भारत भेज रहा है. खुद वॉशिंगटन जाने की बात कही कि उसे वहां किसी से पैसे लेने हैं. इसके बाद 8 जनवरी को मेरे पास सिमरन देसाई नाम की लड़की का फोन आया. उसने कहा कि अजय ने जो सामान भेजा है वो कस्टम में फंस गया है. मुझे बताया गया कि सामान में 1 लाख 60 हजार पाउंड्स हैं. मैंने अजय को फोन किया तो उसने कहा कि वो उसकी 8 साल की कमाई है. सामान नहीं छुड़वाया तो वह बर्बाद हो जाएगा. उसने मुझसे कहा कि सामान छुड़वाने के लिए मैं 12 लाख ट्रांसफर कर दूं. मुझे उस पर इतना भरोसा हो गया था कि मैंने पैसे ट्रांसफर कर दिए. अब उसका फोन बंद आ रहा है.

ऐसे ही एक शख्स ने देहरादून में बैठकर दिल्ली की दो लड़कियों को अपना शिकार बनाया.

मेरा परिवार उत्तराखंड का रहने वाला है. तो मेरे लिए रिश्ते भी हम उत्तराखंड कम्युनिटी में ढूंढ रहे थे. वेबसाइट पर एक लड़के की प्रोफाइल पसंद आई. तो मैंने उससे बातचीत शुरू कर दी. कुछ दिनों तक बातचीत होती रही. इस दौरान वो अक्सर कहता है कि बिजनेस में लॉस हो रहा है. घर से पैसे नहीं लेता, पैसों की बड़ी दिक्कत हो रही है. मैंने एक-दो बार उसको हजार-दो हजार रुपये दे दिए. बाद में उसकी बातों से डाउट हुआ तो मेरे परिवार ने पुलिस में शिकायत करवाई. पुलिस की जांच में पता चला कि वो देहरादून में रहता था. उसने अपनी प्रोफाइल में उत्तराखंड बीजेपी के किसी नेता का नाम यूज किया था और फोटो मध्य प्रदेश के किसी विधायक के बेटे की लगाई थी. कुछ दिनों बाद एक और लड़की ने मोहन नगर थाने में शिकायत दर्ज करवाई. उसी लड़के की. उसने उस लड़के को 50 हजार रुपये दे दिये थे. इसके बाद पुलिस ने देहरादून जाकर उस लड़के को गिरफ्तार किया.

फेसबुक प्रोफाइल नहीं देता था, नंबर नहीं मिलने से हुआ डाउट

लोकल मैट्रिमोनी, रिश्तेदारों में बात नहीं बनने के बाद मैंने बेटरहाफ डॉट कॉम में अपनी प्रोफाइल बनाई. मुझे रोहन नाम का लड़का मिला. वो बेंगलुरु में रहता था और मेरे होमटाउन का रहने वाला था. उसने बताया कि वो किसी बड़ी एमएनसी में काम करता है. मैं उससे बात करने लगी. मैंने उसे फेसबुक पर सर्च किया, लेकिन वो नहीं मिला. मैं जब भी उसकी फेसबुक प्रोफाइल मांगती वो टाल देता और कोई और ही बात करने लगता. एक-दो दिन बात होने के बाद हमने नंबर्स एक्सचेंज किये. ट्रूकॉलर पर उसके नंबर पर 35 स्पैम रिपोर्ट्स थे. मैंने बेंगलुरु में रहने वाले और उसी की फील्ड में काम करने वाले एक दोस्त को उसकी डिटेल दी. लेकिन कुछ पता नहीं चला. इसके बाद मैंने उससे बात करना बंद कर दिया.

ये ऐसी तीन लड़कियों के अकाउंट्स हैं जो ऑनलाइन मैट्रिमोनियल वेबसाइट्स पर ठगी का शिकार हुईं या शिकार होते-होते बचीं.

घर बैठे रिश्ता तय करने का दावा करने वाली ये वेबसाइट्स सहूलियत तो देती हैं. लेकिन इनके अपने कई नुकसान हैं. ये वेबसाइट्स ऑनलाइन ठगी करने वालों के लिए प्लेटफॉर्म का काम भी कर रही हैं. इनमें अकाउंट बनाना बेहद आसान है. और इसलिए ठगी करना भी.

सांकेतिक फोटो. कर्टसी- Pixabayसांकेतिक फोटो. कर्टसी- Pixabay

ऐतिहासिक कहानियां हों या बॉलीवुड की फिल्में. हम देखते आए हैं कि किसी को अपने प्यार के जाल में फंसाकर उससे कुछ भी करवाया जा सकता है. फिर मैट्रिमोनियल वेबसाइट्स तो होती ही हैं शादी का वादा करने वाली. ऐसे में यहां ठगों के लिए काम ज्यादा आसान हो जाता है. किसी लड़की या लड़के को पकड़ो, उनसे उनके मनमाफिक बात करो. जब लगने लगे कि वो प्यार में पड़ गया या गई है तो फिर अपना मकसद पूरा करो.

मैट्रिमोनियल वेबसाइट्स से होने वाली ठगी की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए, जीवनसाथी डॉट कॉम ने कुछ वक्त पहले एक आर्टिकल पब्लिश किया था. इसमें ऑनलाइन मैट्रिमोनी वेबसाइट्स पर फ्रॉड से बचने के टिप्स बताए गए थे. ये काफी जरूरी टिप्स हैं. जान लें  काम आएंगे-

प्रोफाइल चेक करें

जो भी शख्स आपसे ऑनलाइन मैट्रिमोनी के जरिए मिलता है, वो आपका लाइफ पार्टनर हो सकता है. इसलिए उस व्यक्ति के प्रोफाइल में दी गई हर जानकारी की आप जांच करें. कंपनी, कॉलेज, स्कूल जो भी उसने मेंशन किया है वहां कॉल करें या जाकर पता करें. उसके दोस्तों-रिश्तेदारों से बात करें, सोशल मीडिया अकाउंट्स चेक करें.

सवाल पूछें

आप अपना जीवनसाथी चुन रहे हैं. यानी जिस व्यक्ति से आपकी बात हो रही है उसके साथ आपकी शादी होने वाली है. इसलिए आपके मन में जो भी सवाल हैं. उसके रहन-सहन, खान-पान, प्रोफेशन, इनकम-पढ़ाई, पसंद-नापसंद, लाइफ को लेकर उसकी अप्रोच, इन सबसे जुड़ा अपना हर सवाल उससे जरूर पूछें. जितना सवाल आप पूछेंगे, आपके लिए सामने वाले का आंकलन करना उतना आसान होगा. अगर वो आपके सवालों को टाल रहा है, या गोलमोल जवाब दे रहा है तो सतर्क हो जाएं.

सामने वाला हड़बड़ी तो नहीं कर रहा?

जिस शख्स से आपकी बात हो रही है, यदि वो शादी को लेकर हड़बड़ी दिखा रहा है, आप पर बात जल्द से जल्द आगे बढ़ाने का दबाव बना रहा है तो संभल जाएं. आप अपना टाइम लें और उस हिसाब से ही फैसला करें. कमिटमेंट देने से पहले उससे, उसके परिवार से, उसके दोस्तों से मिल लें. देख लें कि वो कहां काम करता है. अपनी फैमिली को भी उससे मिलवाएं. सभी पूरी तरह श्योर हों तो ही आगे बात बढ़ाएं. 

पैसों के लेनदेन से बचें

कोई भी ईमानदार और समझदार व्यक्ति शादी की बात शुरू होते ही आपके सामने अपने फाइनेंशियल सिचुएशन का रोना नहीं रोएगा. आपसे पैसे की मदद नहीं मांगेगा. यदि कोई ऐसा करता है तो संभल जाएं. ज्यादातर ठगी पैसों को लेकर ही होती है. इसलिए ऐसी प्रोफाइल्स से दूरी बना लेना ही सही है. अपने बैंक अकाउंट्स की जानकारी किसी भी कीमत पर शेयर न करें.

 

सांकेतिक फोटो. कर्टसी- Pixabayसांकेतिक फोटो. कर्टसी- Pixabay

ऑनलाइन फ्रॉड्स को पहचानना भी बहुत मुश्किल नहीं है. अगर ये लक्षण दिखें तो बिना देर किये गुड बाय बोल दें- 

- कई मामलों में देखा गया है कि फ्रॉड किसी और की तस्वीर का इस्तेमाल अपनी प्रोफाइल में करते हैं. ऐसे में ये लोग अपना चेहरा नहीं दिखाते. न ही वीडियो कॉल करते हैं. और आप मिलने की बात करें तो आनाकानी करते हैं.

- आपके सवालों के गोलमोल जवाब देते हैं. अलग-अलग जवाब देते हैं. कभी कुछ तो कभी कुछ और कहते हैं. अपने परिवार की डिटेल देने से बचते हैं.

- अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स की डिटेल, अपने ऑफिस का पता देने से कतराते हैं.

- उन्हें बेहद हड़बड़ी होती है. कि कैसे भी करके शादी तक बात पहुंच जाए.

- ऐसे लोग बेहद जल्दी प्यार जताने लगते हैं. ऐसे बर्ताव करते हैं जैसे आपसे उन्हें बेहद प्यार हो गया है और आपके बिना नहीं रह पाएंगे. झांसे में न आएं.

और एक जरूरी इनफॉर्मेशन ये भी कि अगर कोई प्रोफाइल आपको फेक लगती है तो आप उसे वेबसाइट में रिपोर्ट भी कर सकते हैं.

आप ये मानकर चलें कि ऑनलाइन दूल्हा या दुल्हन ढूंढ़ते वक्त आपको ज्यादा अलर्ट रहने की जरूरत है. यहां हजारों प्रोफाइल्स मौजूद हैं. छोटी-छोटी सावधानियां बरतकर आप फ्रॉड का शिकार होने से बच सकते हैं. क्योंकि ये ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट तो है नहीं, जहां सामान खरीद लिया और पसंद न आए या डिफेक्टिव पीस निकला तो रिटर्न भी कर दिया. शादी के बाद पछताने या शादी के नाम पर ठगी के शिकार होने से बेहतर है सतर्क रहना.

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group