भारतीय रेलवे औरतों को ये फ्री सुविधाएं देता है, आपको मालूम था?

सभी औरतों के पता होने चाहिए उनके अधिकार.

प्रेरणा प्रथम प्रेरणा प्रथम
दिसंबर 05, 2018
सांकेतिक इमेज- पीटीआई

ट्रेन में सफ़र करना अधिकतर भारतीय फैमिलीज की यादों का एक बेहद ख़ास हिस्सा है. खिड़की के बाहर पेड़ों को पीछे भागते देखना. तीन महीने पहले से स्लिप लाकर भरना ताकि रिजर्वेशन मिल जाए.

ये सभी एक टिपिकल ट्रेन यात्रा के हिस्से हैं. कमोबेश हर किसी ने अपनी लाइफ में कभी ना कभी इन्हें देखा ही होगा. लेकिन क्या आपको मालूम है कि ट्रेन में यात्रा करने के कुछ ऐसे फायदे भी हैं जो आपको महिला होने के नाते मिलते हैं? इसी साल की शुरुआत में रेलवे ने सर्कुलर जारी करके महिला कोटा में आने वाली सीटों की संख्या बढ़ाई थी. क्या क्या चीज़ें हैं जो आपको रेलवे सुविधा के तौर पर देती है, आइए आपको बताते हैं.

train-rep-tw-750x500_120518093135.jpgसांकेतिक तस्वीर: ट्विटर

  1. अगर आप 45 साल से ऊपर की हैं, तो आपको लेडीज़ कोटा में प्राथमिकता मिलेगी. आपके साथ 3 साल तक का बच्चा भी ट्रेवल कर सकता है. उसको आपके साथ लेडीज़ कोटा में ही रखा जाएगा.
  2. पहले ये सुविधा सिर्फ स्लीपर क्लास में थी, लेडीज़ कोटा की. अब एसी में भी है. हर स्लीपर कोच में छह लोअर बर्थ (नीचे वाली बर्थ),एसी थर्ड टियर और सेकण्ड टियर में तीन बर्थ हर कोच में रिजर्व्ड हैं. ये सीटें उनको प्राथमिकता से मिलती हैं जो 45 साल से ज्यादा की महिलाएं हैं, सीनियर सिटिज़न हैं, या प्रेग्नेंट हैं.
  3. पहले लेडीज़ कोटा में अगर सीटें फुल नहीं होती थीं, तो रेलवे उन सीटों को रिलीज करके वेटिंग लिस्ट वालों को दे देती थी. चाहे पुरुष हों या स्त्री. अब ये बची हुई सीटें जो हैं, इनको वेट लिस्ट में मौजूद औरतों को पहले दिया जाएगा. उसके बाद सीनियर सिटीजंस (वरिष्ठ नागरिक) को वरीयता दी जाती है. 

    mumbai-loc-rep-pti-750x500_120518093221.jpgसांकेतिक तस्वीर: ट्विटर

  4. अगर आप महिला हैं और सीनियर सिटीजन हैं तो आपको किराए में छूट भी मिलती है. रेलवे के नियमानुसार आपकी उम्र 58 साल होनी चाहिए. टिकट का जो बेसिक फेयर होता है, यानी टैक्स वगैरह हटा कर जो में किराया होता है उस पर आपको 50 फीसद की छूट मिलेगी. पुरुषों को ये छूट 60 साल की उम्र में मिलेगी, किराए में 40 फीसद कंसेशन के साथ.
  5. अगर फिर भी इन सीटों पर कोई बुकिंग नहीं होती, तो ट्रेन का टीटी ये अधिकार रखता/रखती है कि ट्रेन में किसी भी महिला या सीनियर सिटिज़न को ये सीट दे दे. राजधानी, दुरंतो या जो पूरी तरह से एसी ट्रेनें चलती हैं उनमें एसी थर्ड टियर में चार लोअर बर्थ रिजर्व होती हैं. ये जितनी भी रिजर्व्ड सीटें हैं, ये एक साथ ही होती हैं.

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group