आज के दिन सबसे बड़ी सावधानी आपको ये रखनी चाहिए

आगे कुछ भी पढ़ने से पहले 15 सेकंड अपनी सांस रोक कर देखिए.

ऑडनारी ऑडनारी
नवंबर 06, 2018
दीवाली पर इस बार पटाखों से इस बार थोड़ा दूर ही रहिए. फ़ोटो कर्टसी: ट्विटर

वो कहते हैं न, जिस पर बीते बस वही जाने...

इसलिए आगे कुछ भी पढ़ने से पहले, सिर्फ़ 17 से 20 सेकंड अपनी सांस रोक के देखिए.

कैसा लगा? कितनी देर रोक पाए? घुटन से हालत ख़राब हो गई होगी, तो भक्क से सांस बाहर छोड़ दी? कम से कम आप दोबारा सांस खुलकर ले पाए. जब बर्दाश्त के बाहर हो गया तो आपके फेफड़ों को ऑक्सीजन दुबारा मिल पाई. अब सोचिए अगर ऐसा न हो पाए तो? आप सांस लेना चाह रहे हों, पर सांस आए ही न? पर आप ऐसा क्यों ही सोचेंगे. कभी ऐसी नौबत तो आएगी नहीं. गलत. ऐसी नौबत आ गई है.

दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों की आबो-हवा इतनी ख़राब हो चुकी है कि सांस लेना दुश्वार है. हवा की क्वालिटी इतनी ख़राब हो चुकी है कि इमरजेंसी से लेकर सिविर की कैटेगरी से नीचे ही नहीं आ रही है. मास्क लगाए बिना बाहर निकलना मुश्किल है. पर इसके बावजूद कई लोग हैं जो दिवाली पर पटाखे फोड़ेंगे.

जिनको सांस की बीमारी है, उनके लिए चीज़ें और मुश्किल हो जाती हैं.

diwali-1_110618083151.jpgजैसे ही पटाखे फूटना शुरू होते हैं, लोग ख़ुद को घर के एक कमरे में बंद कर लेते हैं. (फ़ोटो कर्टसी: ट्विटर)

दिवाली के दौरान सांस लेने में दिक्कत क्यों होती है?

राजेश चावला इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल, नई दिल्ली में डॉक्टर हैं. वो कहते हैं:

“साल के इन महीनों में हवा काफ़ी ख़राब रहती है. कई वजहें है. ऊपर से पटाखों का धुआं. तापमान भी ठंडा रहता है. इसलिए डस्ट भी नीचे की तरफ़ रहती है. जिन लोगों को सांस लेने में दिक्कत होती है उनके लिए और परेशानी वाली बात है. ख़ासतौर पर अगर अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, या लंग डिज़ीज़ है तो इस समय symptoms और बुरे हो जाते हैं. ठंड के मौसम से वायरस की ग्रोथ अच्छी होती है. इसलिए सांस से जुड़े इन्फेक्शन बढ़ जाते हैं.”

क्या ख़ुद को कमरे में बंद रखना ठीक होगा?

जैसे ही पटाखे फूटना शुरू होते हैं, लोग ख़ुद को घर के एक कमरे में बंद कर लेते हैं. क्या ये चीज़ उनकी मदद करती हैं? आपको जानकर हैरानी होगी पर नहीं. उल्टा ये हालात ख़राब कर देती है.

एक कमरे के अंदर हवा का बहाव बहुत बंधा हुआ होता है. इसलिए इन्फेक्शन एक इंसान से दूसरे इंसान को बहुत आसानी से हो जाता है. अगर आपको ख़ांसी हो रही है, या नाक बह रही है, शरीर में दर्द है, या सांस नहीं आ रही है तो फौरन किसी डॉक्टर से मिलिए.

अगर आपको सांस लेने में दिक्कत होती है तो इन चीज़ों का ज़रूर ध्यान रखिए:

1. दिवाली वाले दिन दो बार गरम भाप लीजिए. एक बार सुबह और दोबारा शाम को घर से निकलने से पहले. इससे आपकी सांस की नली खुली रहेगी और आपको अस्थमा का अटैक भी नहीं पड़ेगा.

2. घर से बाहर निकलते समय एक गीले रुमाल से मुंह ढक लीजिए. गीले कपड़े की वजह से धुआं और पॉल्यूशन सीधे सांस में नहीं जाएगा.

3. दिनभर में जितना हो सके उतना पानी पिएं. ये आपके रेस्पिरेटरी सिस्टम को साफ रखने में मदद करेगा.

4. जैसे ही कोई एलर्जी महसूस हो फौरन paracetamol या कोई और एलर्जी वाली दवाई खाइए.

5. मीठा और ज़्यादा तेल में बना खाना अस्थमा अटैक की वजह हो सकता है इसलिए उससे दूर ही रहें.

6. जिन इलाकों में ज़्यादा पटाखे फोड़े जाते हैं वहां मत जाइए. साथ ही अपना इनहेलर अपने साथ रखिए.

आखिर में हैप्पी दिवाली.

 

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2018 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today.