क्यों सोने पर निवेश करना पैसों की बर्बादी है

इस धनतेरस पर सोना खरीदने से पहले ये पढ़ लें

लालिमा लालिमा
नवंबर 03, 2018
प्रतीकात्मक तस्वीर- इंडिया टुडे

छोटी थी, तब नाक में नथनी पहनने का मन करता था. मम्मी से जिद की, तब उन्होंने कहा कि कुछ दिन रुक जाओ, धनतेरस आ रहा है, तब सोने की नथ खरीद देंगे. मैंने पूछा कि क्यों धनतेरस तक रुकना, अभी क्यों नहीं? तब बताया कि उस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है. धनतेरस आया, नथनी मिल गई. तब पता चला कि केवल मेरे घर में ही नहीं, बल्कि भारत के बहुत, बहुत सारे लोग धनतेरस के दिन सोना खरीदते हैं. शुभ मानते हैं.

अब ऐसा करना शुभ है या नहीं, ये तो मालूम नहीं. लेकिन इतने दिनों में ये तो पता चल गया है कि सोना सही निवेश नहीं है. मैंने देखा है कि हमारे देश की ज्यादातर औरतें पैसे बचाती हैं, और सोना खरीदती हैं. कहती हैं कि बुरे समय पर काम आएगा. धनतेरस पर कुछ औरतें सोने के गहने खरीदती हैं, तो कुछ सिक्के या छोटे बिस्कुट. कुछ औरतें सोने को निवेश के तौर पर भी देखती हैं.

hgfhhhghgfhg-750x500_110318074529.jpgफोटो- यूट्यूब स्क्रीनशॉट

अगर आप भी सोने को निवेश के तौर पर देख रही हैं, और धनतेरस पर सोना खरीदने की प्लानिंग में है, तो कुछ ऐसी बातें हैं, जिन्हें जानना बहुत जरूरी है-

- अगर आपको गहने पहनना पसंद है, और आप अपना शौक पूरा करना चाहती हैं, और इसी कारण आप सोने के गहने खरीद रही हैं, तो इसमें कोई बुराई नहीं है. बेशक, आप खरीदिए. लेकिन अगर आप निवेश के तौर पर सोना या सोने के गहने खरीद रही हैं, तो ये पैसों की बर्बादी ही है.

- निवेश का मतलब अपने पैसे को किसी ऐसी चीज में लगाना, किसी ऐसी जगह लगाना, जिससे आपको भविष्य में फायदा मिले, या सुरक्षा मिले. अगर आपके दिमाग में भी कहीं न कहीं निवेश वाली बात है, तो आप सोना मत खरीदिए.

- यानी सोने को खरीदने के दो टारगेट होते हैं. पहला गहने पहनने की मंशा. दूसरा निवेश के तौर पर खरीदना. पहले ऑप्शन में कुछ गलत नहीं है. लेकिन दूसरे में है. क्योंकि सोना आपको उतना ज्यादा रिटर्न नहीं देता है, जितना आप एसआईपी (SIP) यानी सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के तहत पा सकती हैं.

gold--bangle_144404422030_650x425_110215061656-750x500_110318074547.jpgफोटो- इंडिया टुडे

- मान लें कि आप दो साल में 30 हजार रुपए बचाती हैं. और आप सोचती हैं कि इन पैसों से आप सोना खरीदेंगी और तब बेचेंगी, जब सोने का रेट बढ़ेगा. तो ये कोई समझदारी वाला निवेश नहीं होगा. अगर आपने पिछले साल 30 हजार रुपए में 1 तोला सोने का सिक्का खरीदा, और इस साल इसे आप बेचने जाएं, तो आपको 30 हजार से थोड़े ही ज्यादा पैसे मिलेंगे. आप उसी रेट पर सिक्के को बेच पाएंगी, जो सोने का करंट रेट रहेगा. इससे ज्यादा आपको कुछ नहीं मिलेगा. क्योंकि रिकॉर्ड पर एक नजर डालें, तो आप देखेंगी कि एक साल में एक तोले सोने पर एक या दो हजार रुपए ही बढ़े हैं. यानी आपका 30 हजार रुपए में खरीदा गया सिक्का, आप 32 या 33 हजार से ज्यादा में नहीं बेच पाएंगी. फायदा होगा केवल 2 या 3 हजार रुपए का.

- इसकी जगह अगर आप एसआईपी में पैसे लगाएंगी, तो आपको हर महीने एक निश्चित इंटरेस्ट रेट के साथ फायदा मिलेगा. निवेश वही अच्छा होता है, जो आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा दे. सोना नहीं दे सकता आपको ज्यादा फायदा.

chocolate-coins-566201_960_720-750x500_110318074630.jpgफोटो- pixabay

- अगर आप पिछले 10-12 सालों में सोने के रेट का उतार-चढ़ाव देखेंगी, तो आप पाएंगी कि सोने ने उतना भी रिटर्न नहीं दिया, जितना आपको एसआईपी में मिल सकता है. ये भी हो सकता है कि सोने का रेट इस साल ज्यादा है, और अगले साल कम हो जाए, तो आपको तो नुकसान ही होना न.

- दूसरा अगर आप सोने के गहने खरीद रही हैं, ये सोचते हुए कि जरूरत पड़ने पर काम आएंगे, तो आपका सोचना गलत है. क्योंकि आप जिस कीमत पर सोने के गहने खरीदती हैं, उतनी कीमत पर आप उसे बेच नहीं पातीं. वो इसलिए, क्योंकि जब आप कोई गहना खरीदती हैं, तो उसमें उसका मेकिंग चार्ज जुड़ा होता है, वो नई डिजाइन का होता है, उस डिजाइन का पैसा भी शामिल होता है उसमें. लेकिन जब आप उसे बेचती हैं, तो मेकिंग चार्ज कोई नहीं देखता. केवल ये देखा जाता है कि सोना कितना है. ऐसे में अगर आप वो गहना सालों तक न पहनें, उसे केवल एक जगह रखे रहे, तब भी वो खरीदे हुए दाम से कम में ही बिकेगा.

gold-weights_144593205380_650x425_102715012351-750x500_110318074648.jpgफोटो- इंडिया टुडे

- धनतेरस पर बचत का पैसा सोने के सिक्के पर न लगाकर, SIP में लगाएं, या डिपॉजिट करें. बैंक में जमा करने पर भी, एक निश्चित इंटरेस्ट रेट के साथ आपका पैसा बढ़ता रहेगा, वो कम नहीं होगा. इसके अलावा सोना घर पर रहेगा तो चोरी का भी डर होगा.

- अगर आपको बचत करनी है, और आपके पास बचत है तो उसे म्यूचुअल फंड के सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में डालिए. जिसमें आप हर महीने थोड़ा-थोड़ा पैसा लगाते हैं, और बाद में वो एक होकर आपको बेहतर रिटर्न देता है. एसआईपी इन्वेस्टमेंट के लिहाज से भारत में सबसे ज्यादा सुरक्षित प्लान है.

- अब इतनी बार हमने SIP के बारे में कहा है, तो एक बार ये भी जान लें कि एसआईपी होता क्या है. पूरा नाम- सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान. यानी इन्वेस्ट करने का एक सिस्टेमैटिक तरीका. ये आपको हर महीने छोटी-छोटी रकम इन्वेस्ट करने का मौका देता है. आप हर महीने या तीन महीनों में एक बार पैसे जमा कर सकते हैं. एक साथ 5000 न करके आप 10 बार 500-500 जमा कर सकते हैं. बिल्कुल वैसा ही, जैसा आप बचपन में गुल्लक में पैसा डालती थीं. ये एक बेहतर निवेश साबित होगा. 

 

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

ऑडनारी से चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं!

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2018 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today.