कांग्रेस विधायक ने मीटिंग के बीच अधिकारियों को गाली दी, टेबल पर रखा सामान भी फेंकने लगी

गालियां देने के बाद जमकर नारेबाजी भी शुरू कर दी.

लालिमा लालिमा
मई 15, 2019
कांग्रेस विधायक यशोमती ठाकुर. फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट/फेसबुक

सोशल मीडिया पर आए दिन कुछ न कुछ वायरल होता रहता है. कभी किसी की कोई तस्वीर, तो कभी किसी का कोई बयान, तो कभी किसी का कोई सीसीटीवी फुटेज. अभी चुनावी मौसम है, ऐसे में नेताओं से जुड़े कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. कांग्रेस की एक विधायक का वीडियो भी सामने आया है. इनका नाम है यशोमती ठाकुर. महाराष्ट्र के अमरावती जिले में आने वाली तिवसा विधानसभा सीट से विधायक हैं.

अब इनका जो वीडियो वायरल हुआ है, उसमें ये जिले के अधिकारियों पर जमकर चिल्लाती हुई दिख रही हैं. उन्हें गाली भी दे रही हैं, और उनके ऊपर पानी के ग्लास के ऊपर रखा एक ढक्कन फेंकती नजर आ रही हैं. इसके अलावा उन्होंने नारे भी लगाए. वीडियो में गालियां हैं, इसलिए हम उसे आपको नहीं दिखा सकते. लेकिन आप स्क्रीनशॉट जरूर देखिए-

yashomati-3_051519014151.jpgयशोमती ठाकुर ने अधिकारियों के ऊपर टेबर पर रखा सामान भी फेंका. फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट

अब आपको पूरा मामला बताते हैं-

तिवसा, यशोमती जहां की विधायक हैं, वहां पानी की बहुत किल्लत मची हुई है. यशोमती चाह रही थीं, कि अप्पर वर्धा डैम का पानी तिवसा को दिया जाए. अप्पर वर्धा डैम, अमरावती के सिम्होरा गांव में है. ये गोदावरी नदी की सहायक नदी वर्धा पर बना हुआ है.

वापस आते हैं मुद्दे पर. डैम का पानी तिवसा के लिए छोड़ने को लेकर 13 मई के दिन एक मीटिंग हुई. उस मीटिंग में सरकारी अधिकारी, यशोमती और उनके कुछ समर्थक मौजूद थे. मीटिंग में यशोमती को अधिकारियों के ऊपर गुस्सा आ गया. वो चिल्लाने लगीं. और गालियां बकने लगीं. उन्होंने अधिकारियों के ऊपर ये आरोप लगाए, कि वो पानी नहीं छोड़ रहे. किसी तरह उन्हें वहां मौजूद बाकी लोगों ने शांत कराया.

यशोमती का कहना है कि बीजेपी के लोग जानबूझकर पानी नहीं छोड़ना चाहते. बाद में जब यशोमती से उनके रवैये को लेकर सवाल किया गया, तब उन्होंने कहा, 'उन लोगों को पिछली रात में ही पानी छोड़ देना था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. यही एक कारण है कि मुझे मीटिंग में गुस्सा आ गया. पिछले दो हफ्तों से हम यही मांग कर रहे हैं कि पानी छोड़ा जाए अप्पर वर्धा डैम से. हमने तो कलेक्टर से परमिशन तक ले ली, लेकिन बीजेपी विधायक ने परमिशन लेटर पर साइन नहीं किया.'

अब इतना ड्रामा हुआ इस मीटिंग में तो, इसका नतीजा भी जान लीजिए. अप्पर वर्धा डैम से पानी तिवसा के लिए रिलीज कर दिया गया है. यशोमती का कहना है कि उनके विरोध की वजह से ऐसा हो सका. उन्होंने कहा, 'हमारे प्रदर्शन के कारण सरकार पर दबाव बना, और उन्होंने पानी छोड़ने के लिए हामी भरी. और लोगों को पानी मिल सका. पानी के ऊपर हमारा भी अधिकार है.'

इसे भी पढ़ें- ममता बनर्जी की फोटो बिगाड़ने पर जिस प्रियंका को जेल हुई थी, उस पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group