क्या होता है जब किराए का घर ढूंढने निकलती है एक सिंगल लड़की

सिंगल लड़की मकान मालिक को कैसे यकीन दिलाए कि वो सिर्फ मौजमस्ती के लिए दूसरे शहर में नहीं आई.

मेरी एक दोस्त हैं. पेशे से जर्नलिस्ट हैं. दिल्ली में हैं. आजकल घर ढूंढ रही हैं, लेकिन मिल नहीं रहा, क्योंकि वो सिंगल हैं. यानी उनकी शादी नहीं हुई. कई मकान देख चुकी हैं, लेकिन आखिर में उनके सामने एक शर्त रख दी जाती है, कि वो सिंगल लड़कियों को घर नहीं देते.

पहले जानते हैं कि उनके साथ क्या हुआ.

ब्रोकर की मदद से उन्हें एक घर मिला. उन्होंने ब्रोकर को उनकी फीस भी दे दी. नए घर में सामान शिफ्टिंग के लिए पैकिंग शुरू कर दी. उनके पास अचानक ब्रोकर का फोन आया, उन्होंने बताया कि मकान मालिक उनसे मिलना चाहता है. उन्होंने कहा कि वो शिफ्टिंग के दौरान ही मकान मालिक से मिल लेंगी, लेकिन ब्रोकर ने कहा कि पहले मिलना होगा. वो तभी मकान ले सकेंगी. वो मकान मालिक से मिलने जाती है. जो उनके सामने शर्त रख देता है कि मकान लेने के लिए उन्हें शादीशुदा होना होगा. सिंगल लड़कियों को वो घर नहीं देते हैं. उनके साथ ये तीसरी बार हुआ था.

खैर, मेरी दोस्त ने मकान मालिक से पूछा, 'तो क्या अब घर ढूंढने से पहले मुझे लड़का ढूंढना पड़ेगा?' उन्हें घर तो नहीं मिला, लेकिन सवाल वाजिब है. क्या शादी के बिना एक लड़की को एक अदद किराए का घर भी नहीं मिल सकता?

वो और उनके जैसी कई लड़कियां जो नौकरी और पढ़ाई के लिए दूसरे शहर में जाती हैं, कभी न कभी ये सब देख और सुन चुकी होंगी. एक सिंगल लड़की के लिए नए शहर में घर ढूढंना चंद्रमा पर पानी खोजने से भी ज्यादा मुश्किल होता है.

अगर किस्मत बहुत अच्छी है, तो मकान मिल जाएगा. लेकिन उसके बाद भी मकान मालिक की ढेरों शर्तें पीछा नहीं छोड़तीं, जैसे समय पर घर आएं, पार्टी नहीं करें, लड़कों के घर न लाएं, वगैरह. इनमें से कुछ भी किया तो घर छोड़ना पड़ सकता है.

कुल मिलाकर एक सिंगल लड़की के लिए मकान मालिक को यकीन दिलाना मुश्किल हो जाता है कि वो वाकई नौकरी या पढ़ाई के लिए घर से आई हैं. सिर्फ मौजमस्ती के लिए नहीं.

देश में कामकाजी लड़कियों की संख्या बढ़ती जा रही है. गांव, कस्बों और छोटे शहरों से लड़कियां भागते-दौड़ते शहरों में ठिकाना खोजती हैं. नए शहर के हिसाब से जीना चाहती हैं. ऐसे में मकान मालिक का ढेरों शर्तें थोप देना उनकी जिंदगी को और मुश्किल बना देता है.

ये भी पढ़ें- CBSE की टॉपर लड़कियां पढ़ाई के अलावा क्या-क्या करती हैं

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group