ए आर रहमान के घर की औरतें बुर्का पहनें या सिर खुला रखें, आपको क्या?

बेटी के बुर्का पहनने पर रहमान ट्रोल हो गए. लेकिन जवाब भी दे दिया.

लालिमा लालिमा
फरवरी 08, 2019
ए.आर. रहमान अपनी बेटी खातिजा के साथ. फोटो- ट्विटर

'स्लमडॉग मिलेनियर' फिल्म के 10 साल पूरे होने पर एक इवेंट हुआ. अभी एक-दो दिन पहले ही. इस इवेंट में म्यूजिक कम्पोज़र ए आर रहमान भी गए. स्टेज पर उनकी बेटी खतिजा भी उनके साथ पहुंची. खतिजा ने अपने पिता के लिए बहुत ही इमोशनल स्पीच भी दी. अच्छी स्पीच थी. लेकिन लोगों का ध्यान इस बात पर नहीं गया कि खतिजा ने अपने पिता के लिए क्या कहा, बल्कि लोगों का ध्यान इस पर चला गया कि उसने स्टेज पर पहना क्या था.

दरअसल, खतिजा ने बुर्का पहन रखा था (कवर इमेज देख लीजिए). बस फिर क्या था, खलिहर लोग अपना काम करने में लग गए. क्या काम? यही, कभी इसे तो कभी उसे ट्रोल करने वाला काम. कर डाला ए आर रहमान और उनकी बेटी को भी ट्रोल.

vfdgfg_020819013221.jpgफोटो- ट्विटर

खतिजा के बुर्का पहनने पर रहमान पर सवाल खड़ा कर दिया. कहा कि रहमान अपनी बेटी के ऊपर बुर्का पहनने का दबाव बनाते हैं. वो 'ढोंगी' हैं. लोगों ने यहां तक कह दिया कि रहमान उन्हें खुली सोचवाले लगते थे, लेकिन वो अपनी बेटी को बुर्का पहना रहे हैं. जमकर ट्रोल कर दिया रहमान और खतिजा को.

gfdgfdg_020819013244.jpgफोटो- ट्विटर

जनता जनार्दन की ट्रोलिंग इतनी ज्यादा हो गई, कि रहमान को जवाब देना पड़ गया. उन्होंने ट्वीटर पर एक तस्वीर पोस्ट की. जिसमें उनकी वाइफ सायरा, बड़ी बेटी खतिजा और छोटी बेटी रहीमा, नीता अंबानी के साथ दिख रहे हैं. (नीता, अरबपति व्यापारी मुकेश अंबानी की वाइफ हैं).

तस्वीर में सायरा के सिर पर पल्ला था, रहीमा सूट पहनी थीं, सिर खुला था. खतिजा बुर्के में थीं. रहमान का मैसेज साफ था. ये कि उनके परिवार की औरतों को अपनी पसंद के कपड़े पहनने की आजादी है. फिर वो चाहे सिर ढकें, या खुला रखें, या फिर बुर्का पहनें. ये उनकी मर्जी है. साथ में एक कैप्शन भी दिया. हैशटैग फ्रीडम टू चूज़/#freedomtochoose, यानी अपनी पसंद को पसंद करने की आजादी. ये तस्वीर भी इस वक्त काफी वायरल हो रही है.

rehman-1_020819013301.jpgरहमान ने ये तस्वीर पोस्ट की है.

वहीं, खतिजा ने भी फेसबुक पर अपनी बात रखी है. कहा है कि बुर्का पहनना उसकी पर्सनल चॉइस है. इसमें उसके पिता को घसीटना सही नहीं है. खतिजा रहमान नाम के फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया गया. पोस्ट अंग्रेजी में है, हम उसे ट्रांसलेट करके आपके सामने रख दे रहे हैं, पढ़ लीजिए-

'मेरे पिता के साथ मैंने स्टेज शेयर किया, इस पर अभी काफी चर्चा हो रही है. हालांकि, मैंने ये उम्मीद नहीं की थी कि इस तरह का जबरदस्त रिस्पॉन्स मुझे मिलेगा. हालांकि कुछ लोगों ने ये कमेंट किया है कि जो कपड़े मैंने पहने थे, वो मेरे पिता ने मेरे ऊपर दबाव बनाया था, इस वजह से मैंने पहने. और इसलिए वो डबल स्टैंडर्ड वाले हैं. मैं ये कहना चाहूंगी कि मेरी लाइफ में मैं जो फैसले लेती हूं, जो पहनती हूं, वो मेरी चॉइस होती है, उसका मेरे पैरेंट्स से कोई लेना-देना नहीं होता. नकाब लेना मेरी पर्सनल चॉइस है. मैं पूरे गर्व के साथ इसे लेती हूं. मैं मैच्योर हूं, मैं अपनी चॉइस और अपने फैसले जानती हूं. हर किसी इंसान को अपने पसंद के कपड़े पहनने का हक है, हर किसी को अपनी पसंद का काम करने का हक है, और यही मैं भी कर रही हूं. इसलिए प्लीज आप बिना कुछ जाने-बूझे इस मामले में अपना जजमेंट मत दीजिए.'

capture1112_020819013322.jpgखतिजा का जवाब.

अब बुर्का पहनना सही है या गलत, जरूरी है या गैर-जरूरी. ये एक अलग मुद्दा है. एक अलग डिबेट है. लेकिन अगर कोई अपनी पसंद का कुछ पहन रहा है, अगर अपनी पसंद से कुछ कर रहा है, तो फिर लोग इसमें टांग क्यों अड़ाते हैं. ए आर रहमान के परिवार की औरतें जो पहनें, उनकी मर्जी है. खैर, बुर्के को लेकर आप क्या सोचते हैं, बताइएगा जरूर. 

इसे भी पढ़ें- हिजाब-डे गैरज़रूरी तो है ही, लेकिन उसके खिलाफ तस्लीमा का ट्वीट और भी ज्यादा बकवास है

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group