अलवर गैंगरेप का शिकार हुई लड़की की हालत कैसी हो गई है, जानकर सिहरन होती है

लड़की ने मामले के बाद की भयावहता बयां की.

सांकेतिक इमेज: फ्लिकर/अनिल कुमार

अलवर गैंगरेप  मामला पिछले दो हफ़्तों से मीडिया में बना हुआ है. इस मामले से जुड़े अपडेट्स लगातार सामने आ रहे हैं, और ये भी पता चल रहा है कि पूरे मामले में किस तरह लापरवाही बरती गई. कैसे मामले को दबाया गया. अब इस मामले से जुड़ी एक और खबर सामने आई है.

इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए इंटरव्यू में विक्टिम ने खुलासा किया है कि उसके लिए नॉर्मल हो पाना कितना मुश्किल हो रहा है. उसने बताया,

'एक समय तो मुझे बिस्तर से उठने में भी मुश्किल हो रही थी. जो हुआ उसके बारे में ही सोचे जा रही थी मैं. मेरे दिमाग में वही बात बार-बार घूम रही थी, लेकिन मैंने खुद को किसी तरह से दोबारा नॉर्मल होने की तरफ खींचा है.

अब भी जब मैं रात को सोने जाती हूं, तो पूरी घटना वापस याद आने लगती है और सोना मुश्किल हो जाता है. मैं चाहती हूं कि उन मर्दों को फांसी हो. मेरे साथ जो उन्होंने किया उसकी वजह से नहीं बल्कि इसलिए कि मैं चाहती हूं कि किसी दूसरी औरत को इन सबसे न गुज़रना पड़े'.

'पहले तो एक मोटर साइकिल हमारे पीछे आई, कुछ मिनट बाद दूसरी भी आ गई. हमें एहसास नहीं था कि वो हमारे साथ गलत करना चाहते हैं जब तक हमारी गाड़ी को उन्होंने ओवरटेक करके रोक नहीं लिया. पहले उन्होंने हमसे हमारे नाम पूछे, हमारे पिताओं के नाम पूछे. फिर उनमें से एक आदमी ने हमारी जात पूछी. हमने कहा हम दलित हैं. उसने कहा, दलित हमारा क्या बिगाड़ लेंगे'.

विक्टिम ने बताया कि किस तरह उन आदमियों ने जबरन उसके साथ रेप किया. विडियो बनाया. उसके पति को और उसे जबरन सेक्सुअल एक्ट करने पर मजबूर किया, उसका विडियो बनाया. फिर उनसे बार-बार पैसों की मांग की. उसने बताया कि वो अपने ससुराल की जगह मायके गई और अपनी मां को सबकुछ बताया. मां ने कहा कि उनके पास विडियो हैं, तो ये बात अपने तक ही रखनी चाहिए. फिर वो ससुराल गई, और कपड़े धोए, नहाई.

rp-reuters_750x500_052119095358.jpgसांकेतिक तस्वीर: रायटर्स

अलवर मामले में अगर आप नहीं जानते तो पूरा मामला ये रहा:

प्रेमा (काल्पनिक नाम), 26 अप्रैल के दिन, अपने पति मोहन (काल्पनिक नाम) के साथ लालवाड़ी गांव से तालवृक्ष जा रही थी. दोनों बाइक से जा रहे थे. थानागाजी-अलवर बाईपास रोड से उनकी बाइक गुजर रही थी. दुहार चौगान वाले रास्ते से कुछ ही दूरी पर, दोपहर करीब 3 बजे, प्रेमा और मोहन की बाइक के सामने दो अन्य बाइक आकर रुक गईं. इन दोनों बाइकों पर 5 लड़के सवार थे. पांचों की उम्र 20 से 25 साल के बीच की थी. पांचों लड़कों ने प्रेमा और मोहन को घेर लिया. और दोनों को सड़के से दूर रेत के टीले की तरफ ले गए. वहां ले जाकर उन्होंने मोहन को पीटा. और प्रेमा का एक-एक कर सबने रेप किया. रिपोर्ट्स के मुताबिक आरोपियों ने प्रेमा को गले से पकड़कर खींचा. उसे और उसके पति को पीटा. मोहन के सामने ही प्रेमा के कपड़े उतारे और उसका रेप किया.

इतना ही नहीं, इस गैंगरेप का वीडियो भी बनाया. और कुछ दिन बाद एक छठवें लड़के, जिसका नाम मुकेश है, उसने इस वीडियो को कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर वायरल भी कर दिया. प्रेमा और मोहन, तीन दिन तक चुप रहे. वो लोग सदमे में थे. एनबीटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों को आरोपियों का कॉल भी आ रहा था. आरोपी लड़के ब्लैकमेल कर रहे थे. पैसे मांग रहे थे. आरोपी ने कहा था कि अगर उसे पैसे नहीं मिलेंगे, तो वो वीडियो को वायरल कर देगा.

alwar-gp_052119095623.jpgपुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. फोटो- रिपोर्टर राजेंद्र शर्मा

मीडिया में बवाल होने के बाद पुलिस से जब लेट लतीफी पर जवाब मांगा गया. तब पुलिस ने कहा कि वो सबूत जुटा रहे थे, इसलिए टाइम लग गया. सोचिए कि, गैंगरेप का पूरा वीडियो वायरल हो रहा है, और पुलिस को सबूत चाहिए था. तीनों के नाम छोटेलाल, महेश गुर्जर और हंसराज है.

 

लगातार ऑडनारी खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करे      

Copyright © 2019 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. India Today Group